केजरीवाल अपनी नौटंकी बंद करो : दिल्ली हाईकोर्ट high-court-threat-kejriwaal





नई दिल्ली,प्रवीण कुमार
आप सरकार और आप के प्रमुख केजरीवाल को दिल्ली हाई कोर्ट ने कल फटकार लगाते हुए कहा कि वह अदालत पर दबाव नहीं बनी सकती और उप राज्यपाल से हर बात पर बहस बाजी करने के बजाय काम पर ध्यान दें। आप को उप राज्यपाल से भी एक सीमा तक बहस बाजी करनी चाहिए। इससे पता चलता है कि आप काम पर कम उप राज्यपाल और केंद्र पर ज्यादा ध्यान देती है। high-court-threat-kejriwaal

कल न्यायमूर्ति जी रोहिणी और न्यायमूर्ति जयंत नाथ की एक पीठ ने कहा कि आप पार्टी को सीमा तैयार करना चाहिए कि किस मुद्दे पर किस तर्क से उप राज्य पाल से जिरह करें। ना कि उप राज्यपाल के हर एक फैसले पर बहस किया जाए। आप को इस बर्ताव में बदलाव लाने की जरुरत है। ऐसा नहीं कि आप के इस बर्ताव के लिए हाई कोर्ट को मध्यस्थता करना पड़े। high-court-threat-kejriwaal

आप ( केजरीवाल ) किसी भी मसले को लेकर 2 दिन तक का समय मांग लेते है। जबकि वो मुद्दा आपके सामने घटित होता है। जब अदालत आपसे जबाब मांगती है तो आप दो दिन का वक्त मांग लेते है। इस सन्दर्भ में आप अदालत पर दबाब बनाना चाहते है। न्यायमूर्ति जी रोहिणी और न्यायमूर्ति जयंत नाथ की एक पीठ ने ये बाते तब कहा जब दिल्ली सरकार के वकील ने डीडीसीए में हुए घोटाले पर सुनवाई के लिए दो दिन का वक्त माँगा है। high-court-threat-kejriwaal

इस पर अदालत ने कहा कि दो दिन क्या अदालत आपको दो घंटे अतरिक्त नहीं देगी।

सभी विषयों पर चर्चा हो चुकी है। क्या अभी भी आप के पास कोई अतिरिक्त तर्क है ?

सुप्रीम कोर्ट ने कड़े रूप में आदेश दिया है कि 31 जुलाई तक इस केस को निपटारा किजीए। अतः तय सीमा के अंदर इस पर सुनवाई हो जाना चाहिए। हाई कोर्ट के कड़े रुख से आप के वकील ने सफाई देते हुए कहा कि जिस चर्चा पर जिरह हो चुकी है, उसे दोहराया नहीं जाएगा। इस बात पर पीठ ने कहा कि आप इसे लिखित रूप में दें कि आप दलील देना चाहते है, इसे हम हमेशा जारी नहीं रख सकते है। इसकी सीमा तो निर्धारित होनी चाहिए।

न्यायमूर्ति जी रोहिणी और न्यायमूर्ति जयंत नाथ की पीठ ने कहा कि बहस के दौरान वकील ने जांच आयोग के गठन, इसकी रूपरेखा और दिल्ली सरकार के कार्यक्षेत्र पर अपनी दलीलें पेश की। उन्होंने कहा कि केजरीवाल की ओर से पारित विधयेक पर फैसला लेना उप-राज्यपाल के लिए कठिन और मुश्किल होता है। अतः केजरीवाल और उप राज्य पाल के बीच पीठ उप-राज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच ख़राब तालमेल को लेकर 11 मामलों पर एक साथ सुनवाई कर रही है। केजरीवाल अपनी नौटंकी बंद करो : दिल्ली हाईकोर्ट high-court-threat-kejriwaal




Web Statistics