मुसलमानो को भी योग करना चाहिए : सलमा हामिद अंसारी international-yoga-divas




नई दिल्ली, प्रवीण कुमार
२१ जून को योग दिवस है और योग दिवस को लेकर देश में हिन्दूऔर मुस्लिम धर्म के अनुयायी विवादों में लिप्त देखे जा रहे हैं। एक तरफ जंहा हिन्दूवादी लोगों का कहना है कि ॐ के उच्चारण से ही योग का प्रारम्भ होता है। तो मुस्लिम सम्प्रदाय के लोगों का मानना है कि यदि योग में ॐ शब्द का उच्चारण होता है तो हमलोग योग को नहीं अपनाएंगे। इसके लिए मुस्लिम कमेटी ने एक फतवा भी जारी किया था कि आने वाले 21 जून को योग दिवस पर देश का कोई भी मुसलमान इस कार्यक्रम में शरीक ना हो क्योंकि ॐ हिन्दुओं का वैदिक मन्त्र है। जबकि हम मुसलमान धर्म को मानते है। international-yoga-divas

जबकि इसी क्रम में देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी सलमा अंसारी का कहना है कि ॐ शब्द के उच्चारण से हमें ऑक्सीजन प्राप्त होता है। ॐ शब्द के मात्र ध्वनि उच्चारण से तन और मन को शांति और शक्ति प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि ॐ का उच्चारण करने में कुछ भी गलत नहीं है। international-yoga-divas

भगवान एक है, फिर चाहे अल्लाह कहो, ईश्वर कहो या फिर रब कहो। हम सबको योग करना चाहिए। योग करने से हमें ऑक्सीजन प्राप्त होता है। जो हमारे जीवन का प्रमुख स्त्रोत है। सलमा अंसारी ने कहा कि ॐ के लिए योग का परित्याग करना गलत है। योग पद्धति से ना जाने कितनों की जान बची है। मैं भी योग के सहारे आज जीवित हूँ। यदि योग ना होता तो मेरी हट्टी टूट गई होती। international-yoga-divas

सलमा अंसारी का यह बयान उस वक्त पर आया है जब विपक्ष और मुस्लिम कमेटी योग दिवस का विरोध करने में लगी है। इनका मानना है कि सत्ताधारी पार्टी योग दिवस और धर्म को लेकर अपनी पार्टी को मजबूत करने में जुटी है।

मुसलमानो को भी योग करना चाहिए : सलमा हामिद अंसारी international-yoga-divas




Web Statistics