सुप्रीम कोर्ट पर बैठे केजरीवाल




केजरीवाल सरकार के उस आवेदन को आज सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार कर लिया। जिसमें केजरीवाल सरकार ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के लिए जिरह की बात की गई थी। सुर्पीम कोर्ट ने केजरीवाल सरकार के इस प्रपोजल को आर्टिकल 239 AA के अधीन स्वीकार किया है। कोर्ट सोमवार को इस मुद्दे पर सुनवाई करेगी। kejriwal sat near supreme court 

केजरीवाल सरकार हर समय केंद्र सरकार पर आरोप लगाती रहती है कि केंद्र सरकार दिल्ली सरकार को काम करने नहीं देती है। जबकि यदि आप पार्टी के कार्य शैली पर नजर डाली जाये तो पता चलता है कि केजरीवाल सरकार किस तरह अपनी सत्ता शक्ति का दुरपयोग कर रही है। केजीरवाल सरकार के अब तक एक दर्जन विधायक जेल की हवा खा चुके है। जबकि 21 विधायक पर तलवार लटकी है। जिसकी सुनवाई भी 14 जुलाई से होने वाली है। kejriwal sat near supreme court 

केजीरवाल सरकार के एक दर्जन विधायक जेल की हवा खा चुके है

आपको बता दें कि ये मामला पहले हाई कोर्ट में लम्बित था। जिस पर कोर्ट में कई बार जिरह हो चूका है। अब केजरीवाल इस मुद्दे को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंचे है। केजरीवाल ये आरोप लगाते रहे है कि बीजेपी के केवल तीन विधायक ही विधान सभा में है। फिर भी बीजेपी दिल्ली पर शासन कर रही है। जबकि सरकार आम आदमी पार्टी की है।

दिल्ली में फिर से होगा विधान सभा चुनाव

यदि दिल्ली को पूर्ण राज्य दर्ज नहीं दिया गया तो दिल्ली सरकार पंगु हो जाएगी। दो मामले में केंद्र सरकार अपनी मनमानी करती है। पुलिस और जमीन ये दोनों मामले है। जिस पर पूरी तरह से केंद्र सरकार कब्जा किये हुए है। पुलिस अपनी मनमानी करती है। जबकि जमीन-जायदाद में बीजेपी के माफियाओं की दादागिरी चलती है। kejriwal sat near supreme court 

केजरीवाल जो आरोप बीजेपी पर मढ़ रहे है वो बेबुनियाद है। आज केजरीवाल खुद को घिरा देख कर इस तरह के पैतरे भांज रहे है। हम आपको याद दिला देते है। कुछ इस तरह के कार्य कर केजरीवाल ने स्वच्छ दिल्ली अभियान के करोड़ो रूपये का गबन कर लिया है। ऐसे अनेक घोटाले है जिसमें केजरीवाल लिप्त है। जिसके जाँच में अवरोध पैदा करना चाहते है। kejriwal sat near supreme court 

अब जबकि केजरीवाल के 21 विधायक पर सदस्य्ता को लेकर तलवार लटकी है, आप के कई विधायक जेल में बंद है तो केजरीवाल इन सबको बचाने के लिए दिल्ली को पूर्ण राज्य का नया ड्रामा कर रहे है। अब ये फैसला तो सोमवार को सार्वजानिक होगा जब सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा कि दिल्ली पूर्ण राज्य बनेगा अथवा केजरीवाल को फटकार लगेगी।  kejriwal sat near supreme court 
( प्रवीण कुमार )




Web Statistics