आज है तुलसीदास जयंती जानिए तुलसीदास जी की जीवनी





सम्पूर्ण भारत वर्ष में गोस्वामी तुलसीदास के जन्मदिन पर तुलसी जयंती मनाई जाती है। श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को तुलसी जयंती मनाई जाती है। इस वर्ष बुधवार 10 अगस्त 2016 को मनाई जाएगी। know tulsidas life story

तुलसीदास जी ने रामभक्ति को सगुण धारा में इस तरह प्रवहित किया जिससे ना केवल तुलसीदास जी कृतार्थ हुए अपितु समस्त हिन्दू समाज उनके सगुण धारा से राम जी के आदर्शों से प्रेरित हुए। गोस्वामी तुलसीदास जी लोक भाषा में राम कथा की रचना की है। know tulsidas life story

गोस्वामी तुलसीदास जी का जन्म 1532 ई में उत्तर प्रदेश राज्य के बाँदा जिला स्थित राजापुर नामक ग्राम में हुआ था। इनके पिता जी का नाम आत्माराम दुबे तथा माता जी का नाम हुलसी था। know tulsidas life story

गोस्वामी तुलसीदास का जी बचपन दुःख में बीता। युवा होने पर इनका विवाह रत्नावली जी से हुआ। इनको अपनी पत्नी से अत्यधिक स्नेह, लगाव एवम प्रेम था।तुलसीदास जी को इसी प्रेम के कारण एक बार अपनी पत्नी से फटकार सुनना पड़ा था। प्रेम में पड़े फटकार ने इनकी दिशा और दशा दोनों ही बदल दी। know tulsidas life story

तुलसीदास जी संस्कृत एवम हिंदी के प्रकांड विद्वान थे know tulsidas life story

तत्पश्चात तुलसीदास जी राम जी की भक्ति में इस प्रकार डूबे कि उनके अनन्य भक्त बन रामचरित मानस ग्रन्थ की रचना कर डाली। तुलसीदास जी भक्ति धारा से जुड़ने के पश्चात इन्होनें गुरु बाबा नरहरिदास जी से दीक्षा प्राप्त किया। know tulsidas life story

तुलसीदास जी ने अपने जीवन का अधिकांश समय चित्रकूट, अयोध्या एवम काशी में व्यतीत किया। तुलसीदास जी ने अनेक स्थानों पर भर्मण किया। तुलसीदास जी ने अपने जीवन काल में अनेक ग्रंथो की रचना की जिसमें रामचरितमानस को वर्तमान काल में भी भक्ति भाव से पढ़ा जाता है। know tulsidas life story

तुलसीदास जी ने रामचरितमानस में भगवान राम जी के चरित्र का अत्यंत मनोहर एवम भक्तिपूर्ण चित्रण को प्रस्तुत किया है। रामचरितमानस में भगवान राम जी के जीवन का वर्णन कवित्त, सवैया, चौपाई आदि छन्दो में तुलसीदास जी ने प्रस्तुत किया है। know tulsidas life story

कल्कि जयंती की कथा एवम इतिहास

तुलसीदास जी संस्कृत एवम हिंदी के प्रकांड विद्वान थे। उन्होंने रामचरितमानस, बरवै रामायण, रामलला नहछू, हनुमान बाहुक, रामज्ञा प्रशन, संकट मोचन, जानकी मंगल आदि की रचनाएं की। रामचरितमानस के बाद उन्होंने हनुमान चालीसा काव्य धारा की रचना की जो अत्यधिक प्रसिद्ध हुआ। जिसे सभी भक्त गण अति भक्ति भाव से सुनते है। know tulsidas life story

तुलसीदास जी के समय में समाज में अनेक कुरीतियाँ फैली हुई थी। जिसे दूर करने के लिए तुलसीदास जी ने अपने काव्य रचनाओं द्वारा प्रयास किया। उन्होंने रामराज की परिकल्पना को समाज में स्थापित करने की हिमाकत की। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें www.hindumytholgy.org




Web Statistics