चीन को चीन में ही घेरने की तैयारी मोदी ओबामा एक साथ पहुचेंगे बीजिंग।





अमेरिका का मोदी प्रेम एक बार फिर दुनिया को दिखने वाला है। अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा और मोदी के बीच सितम्बर में मुलाकात होने वाली है। जबकि ये मुलाकात चीन में होगी। modi obama china meet 

सितम्बर चार और पांच को चीन के पेइचिंग में जी-20 की बैठक होने वाली है, इसी बैठक में मोदी-ओबामा की मुलाकात होगी। इस मुलाकात के दौरान दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत हो सकती है। modi obama china meet 

पीएम मोदी अपने पेइचिंग के दौरे में जी-20 की बैठक में परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में सदस्यता और विश्व में बढ़ते आतंकवाद पर जोर लगा सकते है।

अमेरिका ने चीन को धमकाया कहा भारत को NSG में देंगे एंट्री

सूत्रों की माने तो इस मुलाकात में आर्थिक और सुरक्षा सहित सभी विषयों पर चर्चा हो सकती है। वैश्विक स्तर पर बढ़ते आतंकवाद को रोकने के दिशा में भी योजनाओं पर विचार विमर्श किया जा सकता है।

आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत द्वारा जैस ए महोम्मद पर बैन लगाने की अनुरोध पर चीन ने आपत्ति जताई थी। जिस कारण जैसे ए महोम्मद पर बैन नहीं लगाया गया था। modi obama china meet 

भारत और चीन के बीच आपसी रिश्तों में यही से तनाव उतपन्न हो गया। बढ़ती दुरी को चीन ने उस समय सार्वजानिक कर दिया, जब चीन ने भारत के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह सदस्यता का पुरजोर विरोध किया। चीन के विरोध के कारण भारत को परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में सदस्यता नहीं मिली थी। modi obama china meet 

जबकि अमेरिका ने भारत को सदस्यता दिलाने के लिए भरपूर प्रयास किया, इस बाबत कुल 48 देश में से चीन को छोड़ सभी देश ने अमेरिका के दबाब के कारण भारत को समर्थन दिया था। पीएम मोदी और ओबामा की ये मुलाकात काफी अहम् होने वाली है। modi obama china meet 

अगले महीने भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर अमेरिका का दौरा करेंगे modi obama china meet

इस मुलाकत के जरिये मोदी-ओबामा चीन को घेरने की कोशिश करेंगे। ज्ञात हो  परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की सदस्यता के लिए दिसम्बर में पुनः बैठक होने की सम्भावना है। ऐसे में मोदी-ओबामा अपने कुशल राजनीति से चीन पर दबाब डालने की कोशिश करेंगे। modi obama china meet 

आपको बता दें कि जी-20 में भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय वार्ता का कार्यक्रम अमेरिका के डेप्यूटी नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर के नई दिल्ली के दौरे के बाद तय की गई है। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने पीएमओ के वरिष्ठ अधिकारियों विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, बिजली मंत्री पीयूष गोयल और वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की। modi obama china meet 

ज्ञात हो कि 30 और 31 अगस्त को भारत और अमेरिका के बीच नई दिल्ली में राजनितिक और व्यापारिक वार्ता होने वाली है। अमेरिका की तरफ से इसका प्रतिनिधित्व अमेरिकी के विदेश सचिव जॉन केरी करेंगे। सूत्रों से ये भी पता चला है कि अगले महीने भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर अमेरिका का दौरा करेंगे। हालांकि, यात्रा की तारीख अभी तय नहीं हुई है। modi obama china meet 

( प्रवीण कुमार )



Web Statistics