क्या जिनका प्रचार-प्रसार होता है वो ही देश भक्त होते है ?

nathuram godse killed gandhi



नाथूराम गोडसे यह वो नाम है जो भारतीय आजादी के साथ जुड़ा हुआ है। ये आजादी देश की आजादी के लिए नहीं है बल्कि ये आजादी उस समुदाय की है जिसे फिर से गुलाम बनाने की कोशिश गाँधीवादी लोगों ने किया था। nathuram godse killed gandhi 

आज देश उसी दुर्भाग्य की दहलीज पर आ खड़ी है जंहा पर 1947 में थी। देश में गाँधीवादी विचारधारा के लोग हिंदुओं को फिर से गुलाम बनाने की कोशिश में है। जिसमें कुछ हिन्दू धर्म के लोग भी है। नाथूराम गोडसे ने मरते वक्त कहा था कि मैं गाँधी जी के अहिंसा शब्द से उतना नहीं डरता हूँ जितना की उनके मुस्लिम प्रेम से डरता हूँ। nathuram godse killed gandhi 

पाकिस्तान को चारो तरफ से घेरने में कामयाब हुए मोदी

देश के भीतर ही इतने देशविरोधी तत्व है तो दुश्मनों की क्या जरुरत है। आज देश वासियों को चाहिए कि एक जुट होकर देश में देशविरोधी तत्वों को उखाड़ फेंके। कल पीएम मोदी ने भी मन की बात के जरिये अपनी बातो को देश के समक्ष प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि देश को एकजुटता की जरूरत है। यदि हम एक जुट हो जायेंगे तो हमारी सेना देश पर आये किसी भी मुसीबत का सामना करने में सक्षम है। nathuram godse killed gandhi 

हमें अपने सैनिकों पर पूर्ण भरोसा है

उन्होंने कहा कि हमें अपने सैनिकों पर पूर्ण भरोसा है और वो हर स्थिति में सीमा पर दुश्मनों को जबाब देने के लिए तैयार है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक और बंगाल से लेकर मुम्बई तक सभी वर्गों को एक होने की जरुरत है। nathuram godse killed gandhi 

आज देश में उसी एकता की जरुरत है जो आजादी के समय आई थी। हालांकि, ये जरुरी है की इस बात का खासा ध्यान रखा जाए कि हमारी इस एकता में और कोई कांग्रेस का मसीहा बन जाए, नहीं तो नाथूराम गोडसे की अंतिम इच्छा कभी पूरी नहीं हो पाएगी।  nathuram godse killed gandhi 
( प्रवीण कुमार )




Web Statistics