बिहार की ही नहीं हमें पुरे देश की परवाह है : नितीश कुमार nitish-kumar-and-jangalraaj-part-2





प्रवीण कुमार, बिहार विधान सभा चुनाव में महागठबंधन को पूर्ण बहुमत मिला है। जिस कारण आज बिहार में महागठबंधन की सरकार है। गठबंधन की सरकार केवल किताबी बात है। हकीकत तो यह है कि बिहार में जंगलराज पार्ट 2 की शुरुवात हो चुकी है। आरजेडी ने कुल मिलाकर 15 वर्ष तक बिहार में शासन किया। इस दौरान बिहार की दशा और दिशा इस कदर बदली कि आज बिहार अपने इतिहास को लज्जित कर रहा है। इतिहास गवाह है कि लोकतंत्र की शुरुवात बिहार से हुई थी और बिहार के पावन स्थल पर बौद्ध धर्म और जैन धर्म का जन्म हुआ। जबकि सम्राट अशोक का जन्म स्थली भी बिहार है। बिहार राज्य से दुनिया को लोकतंत्र की परिभाषा का ज्ञान हुआ।nitish-kumar-jangalraaj

किन्तु आधुनिक काल में यही लोकतंत्र बिहार राज्य के लिए अभिशाप बन गया है। 1990 से लेकर 2005 तक लालू प्रसाद यादव ने बिहार में राज्य किया। इस दौरान बिहार में दहशत, अशांति और अराजकता का माहौल बना रहा। कई अभियंताओं को जान से मार दिया गया, डॉक्टरों को अगवा कर उनके परिवार से फिरौती वसूली गई। अवैध हथियारों की तस्करी की गई। जिससे बिहार राज्य में जंगल राज्य स्थापित हो गया। nitish-kumar-jangalraaj

बिहार राज्य की जनता ने 2005 में अपनी विचारधारा को बदलते हुए नितीश कुमार के हाथ में सत्ता थमा दी। नितीश कुमार जनता के उम्मीदों पर खड़े उतरें। जिससे बिहार में स्थिति सुधरी। नितीश कुमार ने सभी क्षेत्रो में असाधारण और अद्भुत कार्य किया। जिस कारण नितीश कुमार अपने दो कार्यकाल में कई बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया पर्सन ऑफ़ द ईयर आदि पुरस्कार से सम्मानित किये गए। nitish-kumar-jangalraaj

बिहार राज्य में सब कुछ सही चल रहा था किन्तु 2014 में लोकसभा चुनाव बिहार के लिए दुर्भाग्य भरा रहा क्योंकि नितीश कुमार ने मोदी के नेतृत्व में लोकसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया। जिस कारण जदयू और बीजेपी का गठबंधन टूट गई। सरकार भी अल्पमत में आ गई। किन्तु कूटनीतिज्ञ राजनीति के जरिये नितीश सरकार ने बहुमत हासिल कर लिया और पुनः मुख्यमंत्री बन गए। किन्तु लोगों का नितीश से मोह भंग हो गया। जनता की भावनाओ को समझते हुए नितीश कुमार ने ओछी राजनीति शुरू की  और बीजेपी मुक्त बिहार के लिए नितीश कुमार ने आरजेडी और कांग्रेस से अलाइंस कर लिया। यह गठबंधन बिहार में रास आई और नितीश कुमार ने बिहार से बीजेपी का सफाया कर ताज हासिल कर ली। किन्तु यही से जंगलराज पार्ट 2 की शुरुवात हुई। nitish-kumar-jangalraaj

आज बिहार की स्थिति यह है कि हर कोई पुनः डर और खौफ में जी रहा है। अभी तक दर्जनों मर्डर हो चुके है और नितीश सरकार मूक दर्शक बनी हुई है। नतीश कुमार दो द्वन्द में है पहला कि लालू प्रसाद यादव का विरोध नहीं कर सकते क्योंकि आरजेडी को बिहार में सबसे अधिक सीट प्राप्त हुई है। यदि नितीश कुमार आरजेडी से नाता तोड़ता  है तो सरकार गिर जाएगी और फिर नितीश कुमार ना घर के और ना घाट के रह जायेंगे। दूसरा, नतीश कुमार मन ही मन में ये सपने संजोये है कि 2019 में वो प्रधानमंत्री के प्रबल दावेदार है। nitish-kumar-jangalraaj

ऐसे में दो बाते सामने आती है। एक बिहार में जंगलराज पार्ट 2 कायम रहेगा और दूसरा बिहार के जंगलराज व्यवस्था से नितीश कुमार प्रधानमंत्री तो दूर की बात अगली बार बिहार सरकार के कैबिनेट मंत्री भी नहीं बन पाएंगे। nitish-kumar-jangalraaj

( ये लेखक के निजी विचार है )




Web Statistics