ईरान के मोदी मेहमानबाजी से चीन और पाकिस्तान परेशान nrendra-modi-iran-tour




नई दिल्ली, प्रवीण कुमार

विदेश मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22-23 मई को ईरान का दौरा करेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा कि ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी के आमंत्रण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ईरान जाएंगे। पीएम की आधिकारिक यात्रा 22-23 मई को है। अपनी यात्रा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ईरान के शीर्ष नेता अली खामनेई से भेंट करेंगे। जबकि राष्ट्रपति हसन रूहानी से दोनों देशो के हित के लिए ऐतिहतिक विषयों पर वार्ता करेंगे।

सऊदी अरब की यात्रा के डेढ़ महीने बाद पीएम मोदी विदेश दौरे पर जाएंगे। वैसे सऊदी अरब और ईरान के बीच वर्तमान में मधुर संबंध नहीं है। इस सम्बन्ध में मोदी की ईरान यात्रा काफी अहम है। क्योंकि सऊदी अरब भारत का सबसे अधिक तेल आपूर्ति करने वाला देश है। जबकि ईरान भारत का सबसे अच्छा रणनीतिकार विस्तृत पडोसी देश है। जंहा से गैस आपूर्ति की जाती है। nrendra-modi-iran-tour

विदेश मंत्रालय ने इस बात का खंडन करते हुए कहा कि ईरान और सऊदी अरब के मध्य आंतरिक विवाद है। जिसके लिए भारत दोनों देशों के बीच शांति स्थापित होने की कामना करता है। ईरान और भारत की यह वार्ता व्यापार और आपसी सहयोग के लिए है। अतः मोदी की ईरान दौरा से भारत और सऊदी अरब के सम्बन्ध में कोई ठहराव नहीं आएगा। nrendra-modi-iran-tour

विदेश मंत्रालय ने कहा कि मोदी के ईरान दौरा के दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार  वार्ता, ऊर्जा विकसित करने, क्षेत्रीय सम्बन्ध और क्षेत्रीय सहयोग संबंधी मुद्दों पर चर्चा होगी। इससे पहले इसी वर्ष अप्रैल महीने में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ईरान का दौरा किया था। जंहा सुषमा स्वराज राष्ट्रपति हसन रूहानी के अलावा कैबिनेट मंत्री से मिली थी। मोदी का यह अहम दौरा इसलिए है क्योंकि मोदी ईरान के शीर्ष नेता अली खामनेई से मुलाकात करेंगे। जैसा की ज्ञात है कि अली खामनेई ईरान आये विश्व के नेताओं से कम मिलते है। nrendra-modi-iran-tour

मोदी की ईरान दौरे के आधिकारिक घोषणा होने के बाद चीन और पाकिस्तान की मुश्किलें और बढ़ गई है। एक तरफ जंहा अमेरिका के मोदी प्रेम से भारत चीन और पाकिस्तान पर दबाब बनाने में सफल हुआ है। वही अब मोदी के मुस्लिम देश ईरान के दौरे से चीन और पाकिस्तान हैरान और पाकिस्तान है। मोदी के विदेश दौरे से ना केवल भारत का विदेश नीति मजबूत हुई है बल्कि भारत अपने पडोसी देश चीन, पाकिस्तान आदि को पिछले पैर पर खड़े होने के लिए मजबूर कर दिया है। ईरान के मोदी मेहमानबाजी से चीन और पाकिस्तान परेशान nrendra-modi-iran-tour





Chat conversation end

Web Statistics