बकरों की कुर्बानी देने के बजाय इको- फ़्रेंडली बकरीद मनाने की है जरुरत : बीजेपी





आज बकरीद है और बकरीद को कुर्बानी का त्यौहार माना जाता है। जिसमें लाखों बकरों की बलि दी जाती है। जबकि ये पर्यावरण के लिए अनुकूल नहीं है क्योंकि केवल एक त्यौहार की रूढ़िवादिता के लिए लाखों बकरों की बलि चढ़ाना किसी भी हद तक जायज नहीं है। people celebrated bakrid today 

यदि बात करें धर्म, सम्प्रदाय और रीति रिवाज की तो हम कही न कही खुद को जंजीर में बंधा पाते है। जो हमें प्राचीन दुनिया में लेकर जाती है। यदि हम तुलना प्राचीन काल से करें तो हमने विज्ञान के सहयोग से खुद को चन्द्रमा तक पहुंचा दिया है लेकिन इस क्रम में हमने पर्यावरण को काफी क्षति पहुचाई है जिससे आज अकाल, बाढ़ जैसी समस्याओं से जूझ रहे है। आज पर्यावरण मानव की भौतिक सुख के कारण छीन-भिन्न हो गई है। जिस पर हमें गौर करने की आवश्यकता है। people celebrated bakrid today 

पीएम मोदी ने दी बकरीद की बधाई

हम केवल एक धर्म के बारे में बात नहीं कर रहे है हम सभी धर्मों के बारे में यही कहना चाहते है कि पर्यावरण को आदर्श मानकर त्यौहार मनाएं। जिससे पर्यावरण में संतुलन बनी रहे। इस क्रम में आज बीजेपी ने लोगों से इको-फ़्रेंडली बकरीद मनाने की बात पर जोर दिया, बीजेपी के राष्ट्रिय सचिव श्रीकांत शर्मा ने कहा कि हमें इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार करना चाहिए कि सभी धर्मों के त्यौहार इको-फ़्रेंडली हो। people celebrated bakrid today 

कुर्बानी का पर्याय ढूंढा जाए

उन्होंने कहा कि बुद्धजीवियों को इस विषय पर विचार करना चाहिए कि किस तरह पर्यावरण को बचाया जाए। जिस तरह से हम पर्यावरण के हितेषी होते जा रहे है उससे ये जाहिर होता है कि हमें और बुद्धजीवियों को इस मुद्दे पर विचार करना चाहिए। बकरीद त्यौहार भी इको-फ़्रेंडली बकरीद मनाने की आवश्यकता है। people celebrated bakrid today 

आपको बता दें कि बकरीद के अवसर पर दुनिया भर में करोड़ों बकरों की बलि चढ़ाई जाती है जो पर्यावरण के खिलाफ कार्य है। अतः इस सम्मत लोगों को जागरूक होना चाहिए कि कुर्बानी का पर्याय ढूंढा जाए।  people celebrated bakrid today 
( प्रवीण कुमार )




Web Statistics