झूंठी अफवाह: मोदी नहीं चाहते रघुराम राजन गवर्नर बने रहे !!





आरबीआई के गवर्नर रघुराम राजन का कार्य काल सितंबर में ख़त्म हो रहा है। अब चारों तरफ ये ही चर्चा है की अब राजन रहेंगे या जाएंगे। राजन के राज में आरबीआई की दशा ठीक हुई इसमें संदेह नहीं लेकिन इसमें भी संदेह नहीं की रघुराम राजन  के बयानों से भारतीय अर्थ व्यवस्था पर एक कुठाराघात जरूर हुआ। rbi governor raghuram rajan

हमेशा की तरह ब्रिटेन, जिसके पास हमारे देश की कुंजी रहती आयी है| चाहे अर्थव्यवस्था, रजनैतिक ,समाजिक या समबैधनिक हो ब्रिटेन में जाकर जिस प्रकार से रघुराम ने फूहड़ भाषण दिया उससे सम्पूर्ण भारत वासियों को तो ठेस लगा ही  है साथ ही निवेशकों का विश्वास भी तब से डगमगाया है। ये सब होने के बाद भला सुब्र्मण्यम स्वामी जी कैसे बर्दास्त कर सकते थे उन्होंने कहा की इन्हें कनाडा वापिस भेजो ये जनाब विदेशों में रहने वाले एवं उनको ही पुष्ट करने वाले हैं। rbi governor raghuram rajan

अब राम जाने क्या होगा रघुराम राजन का ? rbi governor raghuram rajan

ये दरअसल भारतीय अर्थ व्यवस्था को चौपट करने वाले हैं। इनके कारण लघु, मध्यम उद्द्योग की स्थिति चरमरा गई है। स्वामी जी के साथ कई बीजेपी के सांसद सुर में सुर मिलाने लगे। रघुराम को निर्मला सीतारमण ने साथ दिया उसके बाद जेटली भी कभी खुलकर इनके खिलाफ कुछ भी नहीं बोले। rbi governor raghuram rajan

मोदी जी होश में आओ, सोनिया गांधी को जेल भिजवाओ: अरविंद केजरीवाल

एक पंक्ति तुलसीदास जी की रघुराम पर लागू होती है- “धीरज धर्म मित्र और नारी। आपत काल परखिए चारी”। इस स्थिति में रघुराम राजन को वित्त सचिव मायाराम का पूरा साथ मिला|उन्होंने कहा की भारतीय अर्थ व्यवस्था को रघुराम अच्छी तरह से जान गए हैं और उसमे वो जान फूंकने की भरसक कोशिश करेंगे। rbi governor retiring year 2016

इधर रघुराम राजन ने भी ये कह कर मोदी का दिल जीता की अब पढ़ने पढ़ाने और शोध कार्यो में लगना चाहता हूँ। इससे प्रभवित होकर मोदी जी ने एक मीटिंग कर अपने तमाम सांसदों को बुलाया और उन्होंने राजन के खिलाफ सार्वजानिक तौर पर ऐसी बयान बाजी नहीं करने की नसीहत दी है। तबसे ये कयास लगाए जा रहे है की रघुराम राजन को एक और मौका मिल सकता है जबकि पूर्व वित्त मंत्री चितम्बरम को ये बात पच नहीं रही है। अब राम जाने क्या होगा रघुराम राजन का !  rbi governor raghuram rajan




Web Statistics