बुधिया सिंह और रियो ओलंपिक 2016




मिल्खा सिंह के बाद हिंदुस्तान में यदि किसी ने विश्व में भारतीय प्रतिभा को प्रदर्शित किया है तो उसमें बुधिया सिंह का भी नाम है। जी हां, भले ही आज रियो ओलंपिक का आगाज होने वाला है लेकिन कई ऐसे प्रतिभावान खिलाडी भारत में है जो किसी न किसी कारण इस महाकुम्भ में हिस्सा नहीं ले पा रहे है। rio olympic 2016 live news

आपको बता दें की बुधिया सिंह ने महज पांच वर्ष की उम्र में सबसे कम उम्र का धावक होने का कृतिमान स्थापित किया था। देश में कई ऐसे युवा है जिसने कम समय में अपना और अपने देश का नाम रौशन किया लेकिन ये राजनीति के शिकार होने के कारण आज देश में ही कही अपने सम्मान को बचाने की ताक में है। rio olympic 2016 live news

 बुधिया सिंह एक ऐसे गरीब परिवार से था जिसे देश दुनिया का ज्ञान नहीं था। यदि कुछ ज्ञान था तो वो गरीबी थी। बस दो जून की रोटी के लिए उसके माता-पिता दिन-रात मेहनत करते थे। उस गरीबी और भुखमरी भरी ज़िन्दगी में प्रतिभा तलाशना बड़ी बात है जो बुधिया सिंह के कोच बिरंची ने किया। rio olympic 2016 live news  

आज बिरंची हमारे बीच नहीं है लेकिन उनकी यादें हमारे साथ है। जुडो स्पेशलिस्ट बिरंची राजनीति के शिकार हुए, 2008 में बुधिया सिंह के कोच की हत्या कर दी गई। हत्या किस उद्देश्य से की गई ये आज तक राज है। इस कोच ने बुधिया को फर्श से अर्श पर पहुँचाया। rio olympic 2016 live news  

फिल्म का नाम बुधिया सिंह बोर्न टू रन है rio olympic 2016 live news

इसके लिए बिरंची ने बुधिया को पिता जैसे प्यार, गुरु जैसा शिक्षा, कोच जैसा अनुशासन दिया। आज यदि बुधिया का कोच  जीवित रहता तो आज बुधिया भी रियो में जरूर भाग लेता। शायद, ये बाते खुद बुधिया सिंह के जहन में दबी होगी। देश ने बहुत कुछ दिया लेकिन देश के लोगों ने बहुत कुछ समाज और देश से छीन भी लिया। rio olympic 2016 live news  

बुलेट से बाल-बाल बचे अमिताभ बच्चन


जिस जूनून और उत्साह से बुधिया सिंह अपने बचपन में दौड़ता था वो कोच के मरने के बाद समाप्त हो गया है। इसी क्रम में आज एक फिल्म प्रदर्शित हुई है जो बुधिया सिंह पर आधारित है। इस फिल्म का नाम बुधिया सिंह बोर्न टू रन है जिसमें किरदार मनोज वाजपेयी, मयूर पटोले, श्रुति महात्रे और तिलोत्मा शोम है। rio olympic 2016 live news  

 आज भले ही इस फिल्म को देख लोगों में बुधिया सिंह के प्रति सहानुभूति जगे किन्तु इस भावना से अब कोई फायदा नहीं होगा। यदि समय पर सरकार और लोग इस धावक को उत्साहित और जागरूक करता तो बुधिया रियो ओलम्पिक से एक गोल्ड मैडल जरूर लाता। rio olympic 2016 live news  

( प्रवीण कुमार )




Web Statistics