कश्मीर भारत का था, भारत का है और भारत का ही रहेगा : महबूबा मुफ़्ती



जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कल खादी हाट का उद्घाटन करते हुए कहा कि भारत-पाकिस्तान के बंटवारे में हमारी पीढ़ी की कोई भागीदारी नहीं थी परन्तु खामियाजा हम भुगत रहे है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर का भविष्य भारतीय सविंधान में सुरक्षित है। जिस किसी ने कश्मीर का विलय भारत में किया, वह सुरक्षित फैसला था। kashmir Indian part

कश्मीर पर्यटन kashmir Indian part

खादी हाट के समारोह में माइक्रो, स्माल एंड मीडिया इंटरप्राइजेज मंत्री कलराज मिश्र भी मौजूद थे। महबूबा मुफ़्ती ने समरोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारत-पाकिस्तान के विभाजन को 65 वर्ष हो गए है किन्तु कश्मीर में अस्थिरता अब भी बनी हुई है।

हम माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रहकरतेहै कि वो हमें इस मुसीबत से निकलें। उन्होंने कहा कि अस्थिर माहौल होने के कारण कश्मीर पर्यटन क्षेत्र में अपनी क्षमताओं के अनुरुप लाभ नहीं उठा पा रहा है। kashmir Indian part

आतंकवादियों के कारण इस्लाम धर्म बदनाम हो रहा है : महबूबा मुफ़्ती




महबूबा मुफ़्ती ने जोर देते हुए कहा कि पडोसी मुल्क में रोज क़त्ल हो रहा है जोकि आम बात है। वंहा, कोई अपना मुंह खोल नहीं सकता है। पाकिस्तान में सत्य को दबा दिया जाता है। प्रधानमंत्री अली भुट्टो को फांसी पर लटका दिया। पाकिस्तान देश में अराजकता कायम है।

मेरे पिता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के सहयोग से पाकिस्तान और भारत के बीच बस सेवा शुरू की गई थी। किन्तु ये भाईचारा अधिक दिन तक कायम नहीं रह सका। इसके आलावा भी कई महत्वपूर्ण कदम उठाये गए,  जिससे दोनों देशो में सौहार्द पैदा हुआ। kashmir Indian part

माननीय नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान जाकर एक ऐतहासिक कदम उठाया लेकिन दोनों देशों में ऐसे लोग है जो भारत-पाकिस्तान के रिश्ते में सुधार नहीं होने देना चाहते है। इसके लिए विपक्षी पार्टी जिम्मेदार है।

अंत में उन्होंने कहा कि मेरे पिता कश्मीर के भारत में विलय को सही मानते थे और मैं भी इस बात से सहमत हूँ। आपको विश्वास दिलाता हूँ कि मेरा इरादा कभी नहीं बदलेगा। कश्मीर भारत का था, भारत का है और भारत की ही रहेगा। kashmir Indian part

ये वायरल हुई ख़बरें भी पढ़ें


8 thoughts on “कश्मीर भारत का था, भारत का है और भारत का ही रहेगा : महबूबा मुफ़्ती

  • May 10, 2016 at 12:14 pm
    Permalink

    Despite all the efforts,people of valley suspect Indians south of Jammu and there is lack of confidence in them for Indian federal structure of which Kashmir is a part.Seperatist forces in Kashmir and Pakistan government are exploiting this to their advantage.Before any dialogue with Pakistan Indian government must take CBM to remove the distrust from the mind of Kashmiris. Once Kashmiris accept that they as a whole are part of Indian Federal structure,dialogues with Pakistan will be much easier.Huge employment opportunities should be created to allure young people to work,entertainment opportunities in valley are nil,these need to be created by Mabooba even if she has to challenge separatist and conservative forces. More and more tourism need to be promoted to ensure that the valley regains it’s past status of paradise. All the pandits who were forced tom leave valley long ago should be rehabilitated with dignity .These measures can substatially restore the glory of Kashmir.

  • May 9, 2016 at 11:00 pm
    Permalink

    ye hui na ek nidar mahila wali bat jo schai h use aise hi bina hickhichat bolna chahiye madam ji apko salute h mera

  • May 9, 2016 at 1:41 pm
    Permalink

    Sahi waqt pe sahi bayan PDP gov. Sahi ja rahi hai AKHAND BHARAT , BALSHALI BHARAT VIJAYI RAHEGA

  • May 9, 2016 at 12:41 pm
    Permalink

    अब आया ऊंट पहाण के नीचे

    • May 9, 2016 at 3:22 pm
      Permalink

      Ye hui na himmat me apko salute krta hum madam…

    • May 9, 2016 at 5:47 pm
      Permalink

      सुश्री महबूबा कीवाणी /विचार और सोच सभी बदले हे बधाई हो सत्य स्वीकार किया यह एसी संजीविनि हे जो हरभारतीय और जम्बू कश्मीर के वाशिन्दे को हर दम स्वीकार और अगिकार करनी चाहिये क्या मुस्लिम होना ? कश्मीरियत हे! नहीं कदापि नहींहम साझा हम वतन और साझे muskavil के साथी हे तभी लोक प्रिय सरकार की उपयोगिता सिद्ध होगी अन्यथा सब बेकार हे जब इस प्रकार की जज बाती बाते कही जाएगी औरअसलियत रूबरू होगी तोअलगाव वादी सोच के हौसले पस्त होगे और पाक की असलियत को लेकर जो गलत मनसूबे और जेहनियत हे वह काफूर होगी और घटी में अमन चेन जो पकी सरजमी से नस्त् नाब he1

Comments are closed.

Web Statistics