व्यापारियों के बीच चलेगा “स्मोकिंग को न कहें” अभियान- CAIT

सिगरेट पीने की लत को समाज और स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक मानते हुए कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT – कैट) ने देश भर के व्यापारियों के बीच में ” सिगरेट को न कहें” राष्ट्रीय अभियान चलाने का निर्णय लिया है जिसमें देश के सभी राज्यों में व्यापारियों को सिगरेट के हानिकारक होने से अवगत कराया जाएगा जो की अनेक अध्ययनों से साबित भी हो चुका है।

किन्तु क्योंकि सिगरेट पीने की लत आसानी से छुट्टी नहीं है और इसमें समय लगता है इस दृष्टि से कैट व्यापारियों को सलाह देगा की सिगरेट से बेहद कम हानिकारक नए उत्पाद जैसे ई-सिगरेट जो सिगरेट के मुकाबले 95 प्रतिशत कम हानिकारक है को फिलहाल सिगरेट के बजाय इस्तेमाल किया जा सकता है।

मोटापा घटाने से पहले, इस वीडियो को जरूर देखें/weight-loss-home-remedy

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी. भारतीय ने कहा की हालाकिं कैट किसी भी प्रकार से सिगरेट पीने के खिलाफ है पर देखा गया है की आमतौर पर काम के अधिक दबाव से तनाव से छुटकारा पाने के लिए व्यापारी सिगरेट पीते हैं और इस दृष्टि से जब तक यह लत छूट न जाए व्यापारियों को ई-सिगरेट जैसे उत्पादों को प्रयोग करने से काफी हद तक स्वास्थ्य ठीक रखा जा सकता है।

इंग्लैंड के सार्वजानिक स्वास्थ्य संस्थान द्वारा किये गए एक अध्ययन में यह कहा गया है की इलेक्ट्रॉनिक डिलीवरी निकोटिन सिस्टम (एन्ड) जो वैपस के नाम से भी जाना जाता है अर्थात ई सिगरेट सिगरेट के मुकाबले 95 प्रतिशत कम हानिकारक है क्योंकि सिगरेट का बुरा असर सिगरेट में जलने वाले तम्बाकू से होता है.

जबकि ई सिगरेट निकोटीन होता है जिसमें स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कार्बन मोनोऑक्साइड और टार नहीं होता। रॉयल कॉलेज ऑफ़ फिजिक्स ने भी अपने एक रिपोर्ट में कहा है की ई सिगरेट के इस्तेमाल से लोगों को स्मोकिंग की लत से छुटकारा भी मिल जाता है।

पेट्रोल की कीमत गयी थम, लेकिन डीज़ल ने कराई जेब ढ़ीली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *