आज है जगन्नाथ पूरी रथ यात्रा, जानिए कथा एवं इतिहास

प्रतिवर्ष ओडिशा के पूर्वी तट पर स्थित श्री जगन्नाथ पूरी में भगवान श्री जगन्नाथ जी की रथ यात्रा का उत्सव बड़े ही धूमधाम से आयोजित किया जाता है। यह पर्व आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया से आरम्भ होकर शुक्ल पक्ष की एकादशी तक मनाया जाता है। तदनुसार इस वर्ष रथ यात्रा 4 जुलाई 2019 को प्रारम्भ होकर 13 जुलाई 2018 को समाप्त होगी। रथ यात्रा में रथ को अपनी हाथों से खीचना अति शुभ माना जाता है। rath yatra

एक क्लिक में पाएं सरकारी नौकरियाँ | 4th July 2019
रथयात्रा का इतिहास

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार द्वापर युग में एक बार श्री सुभद्रा जी ने नगर देखना चाहा, उस समय भगवान श्री कृष्ण उन्हें रथ पर बैठाकर नगर का भर्मण करते है। इसी उपलक्ष्य में ओडिशा राज्य के पूर्वी तट पर स्थित जगन्नाथ मंदिर में हर वर्ष जगन्नाथ जी, बलराम जी एवं श्री सुभद्रा जी की प्रतिमूर्ति को रथ पर बैठाकर नगर के दर्शन कराए जाते है। rath yatra

रथ का रूप

जगन्नाथ पूरी रथ यात्रा में श्री कृष्ण जी, बलराम जी एवं बहन सुभद्रा का रथ बनाया जाता है। यह रथ लकड़ी से कुशल कारीगर के द्वारा तैयार किया जाता है। जगन्नाथ रथ यात्रा में जगन्नाथ जी के रथ को ‘गरुड़ध्वज’ बलराम जी के रथ को ‘तलध्वज’ एवं सुभद्रा जी के रथ को “पद्मध्वज’ कहा जाता है। rath yatra

पूरी कथा पढ़ने के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *