22 अक्टूबर 2018 को है प्रदोष व्रत, जानिए व्रत की कथा एवं इतिहास



वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत मनाया जाता है। तदनुसार, कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी 22 अक्टूबर 2018 को प्रदोष व्रत मनाया जाएगा। devotional hindi pradosh vrat katha

कलयुग में प्रदोष व्रत का अतुल्य महत्व है, भगवान शिव जी के भक्त श्री सूत जी का कहना है की जो भक्त प्रदोष व्रत के दिन उपवास रख कर शिव जी की आराधना व् पूजा करते है, उनकी सारी मनोकामना पूर्ण होती है तथा सभी प्रकार का दोष दूर हो जाता है एवं परिवार में मंगल ही मंगल होता है। devotional hindi pradosh vrat katha 

प्रदोष व्रत प्रत्येक महीने के दोनों पक्ष की त्रयोदशी को पड़ता है । भक्तगण सप्ताह के सातो दिन व्रत रख सकते है। ऐसी मान्यता है की प्रदोष व्रत को करने से सप्ताह के सातो दिन भिन्न -भिन्न प्रकार की मनोकामनाएँ पूर्ण होती है। devotional hindi pradosh vrat katha 

रविवार को प्रदोष व्रत करने से शरीर निरोग रहता है, सोमवार को प्रदोष व्रत करने से इच्छित फल मिलता है , मंगलवार को प्रदोष व्रत करने से रोग से मुक्ति मिलती है , बुधवार को प्रदोष व्रत करने से सभी प्रकार की मनोकामना सिद्ध होती है । अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें www.hindumythlogy.org

किसानों के मुक्तिदाता बनेगे बच्चन, चुकायेगे कर्ज




This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.