5 अक्टूबर 2018 को है शरद एकादशी जानिए व्रत की कथा एवम इतिहास



हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन माह की पूर्णिमा को शरद एकादशीकहते है। इस पूर्णिमा को कोजगरा पूर्णिमा अथवा रास पूर्णिमा भी कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात्रि में चन्द्रमा सोलह कलाओं से पूर्ण होता है। इस दिन कोजगरा व्रत भी मनाया जाता है। devotional sharad purnima history

तदनानुसार इस वर्ष 5 अक्टूबर 2018 को शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात्रि में चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसता है। पूर्णिमा के दिन विधि-पूर्वक पूजन और दान-पुण्य करने से अमोघ फल प्राप्त होता है। devotional sharad purnima history

कथा devotional sharad purnima history

पौराणिक कथा अनुसार एक साहूकार को दो पुत्रियां थी। दोनों पुत्री पूर्णिमा का व्रत रखती थी। बड़ी पुत्री श्रद्धा-भाव से पूर्णिमा व्रत को करती थी। किन्तु छोटी पुत्री श्रद्धा-भाव से पूर्णिमा व्रत को नहीं कर पाती थी। फलस्वरूप छोटी पुत्री की संतान पैदा होते ही मर जाती थी।अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें www.hindumythlogy.org

दिल्ली के सफाई कर्मचारियों को बहाल कर न्याय दिया जाये – मनोज तिवारी