28.3 C
New Delhi
25/03/2019
Mobilenews24 | Hindi News, Latest News in Hindi,
Special Krishna Janmashtami
अध्यात्म

कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष





तुमसे तन-मन मिले प्राण प्रिय! सदा सुहागिन रात हो गई Special Krishna Janmashtami

होंठ हिले तक नहीं लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई Special Krishna Janmashtami

राधा कुंज भवन में जैसे

सीता खड़ी हुई उपवन में

खड़ी हुई थी सदियों से मैं

थाल सजाकर मन-आंगन में

जाने कितनी सुबहें आईं,शाम हुई फिर रात हो गई

होंठ हिले तक नहीं,लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

तड़प रही थी मन की मीरा

महा मिलन के जल की प्यासी

प्रीतम तुम ही मेरे काबा

मेरी मथुरा,मेरी काशी

हिन्दू राष्ट्रवाद की स्थापना

छुआ तुम्हारा हाथ,हथेली कल्प वृक्ष का पात हो गई

होंठ हिले तक नहीं,लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

रोम-रोम में होंठ तुम्हारे

टांक गए अनबूझ कहानी

तू मेरे गोकुल का कान्हा

मैं हूं तेरी राधा रानी

देह हुई वृंदावन,मन में सपनों की बरसात हो गई

होंठ हिले तक नहीं,लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

सोने जैसे दिवस हो गए

लगती हैं चांदी-सी रातें

सपने सूरज जैसे चमके

चन्दन वन-सी महकी रातें

मरना अब आसान,ज़िन्दगी प्यारी-सीसौग़ातही गई

होंठ हिले तक नहीं,लगा ज्यों जनम-जनम की बात हो गई

फ़िरदौस ख़ान

घर पर फेस क्रीम बनाने के उपाय




Related posts

वट सावित्री के दिन विवाहित महिलाएं ये खास चीज ‌को करना ना भूलें

admin

30 दिसंबर 2017 को है शनि त्रयोदशी जानिए व्रत की कथा एवं इतिहास

admin

मासिक कार्तिगाई कल, जानिए कथा और इतिहास

admin