इंडो-यूएस के बीच ई-वाणिज्य नीति पर हुई बातचीत से व्यापार में बढ़ावा


नयी दिल्ली-

भारत और अमेरिका के बीच ई-वाणिज्य नीति पर चर्चा से व्यापार में और तेजी आएगी। ऐसी बातचीत से दोनों देशों के बीच कड़े अड़ेंगे आ रही है जिसका हल निकलेगा।

वाणिज्य मंत्रालय ने कहा है कि भारत और अमेरिका के बीच ई वाणिज्य नीति, डेटा के स्थानीयकरण जैसे मुद्दों पर बातचीत काफी सरकारात्मक है। दोनों देशों के बीच व्यापारिक अड़चनें दूर होंगी। जिस प्रकार यूएस अभी वीजा1 नियम को कड़े कर रहा है निश्चिततौर पर इससे समाधान निकलेगा। जिससे भारतीय युवा को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा।

वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि दोनों देश के बीच कई लंबित व्यापार मुद्दों पर चर्चा हुई है जिसमें समुचित समाधान के उपाय भी खोजे जाने की बात कही गई है। यह बातचीत ऐसे समय में हुई है जब अमेरिका व्यापार तरजीह की सुविधा को कड़े कर रहा है। निश्चिततौर पर दोनों देशों के बीच जो व्यापार बढ़े उसमें अब और ज्यादा निरंतरता आएगी। भारत और अमेरिका के बीच 2018 में 142 अरब डॉलर का व्यापार हुआ जो एक साल पहले 126 अरब डॉलर का था यानी 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है।

गौरतलब है कि भारत और अमेरिका के संबंध पिछले दिनों काफी प्रगाढ़ हुए हैं लेकिन अमेरिका अभी वीजा1 पर नियम कड़े कर रही है, जिससे देश के युवाओं पर भार पड़ेगा। वहीं व्यापार पर भी टैक्स लगाने पर विचार किया जा रहा है। दो पक्षीय बातचीत से अब कई समाधान निकलने के आसार हैं। इस तरह के द्वीक्षीय बैठक पर वाणिज्य संगठन और औद्योगिक संगठन ने प्रसन्नता व्यक्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *