“अक्षय तृतीया” पर विशेष

पौराणिक ग्रंथो के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया कहते है। तदनुसार, इस वर्ष अक्षय तृतीया 7 मई यानि आज धूमधाम से पूरे देश में मनाई जा रही है. हिन्दू धार्मिक मान्यताओ के अनुसार इस दिन शुभ कार्य किये जाते है. इस दिन को किये गये धार्मिक कार्यों से अक्षय फल प्राप्त होता है.

आज सुबह की ताज़ा ख़बरें

इसलिए इसे अक्षय तृतीया कहा जाता है. वैसे तो वर्ष के प्रत्येक माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया शुभ होती है. किन्तु वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया स्वंय सिद्ध शुभ महूर्त मानी गयी है. भविष्य पुराण के अनुसार इस तिथि से सतयुग तथा त्रेता युग का शुभारम्भ हुआ था.

कैंफर एयर फ्रेशनर से घर को बनाये खुशबूदार

भगवान विष्णु जी ने इस दिन नर-नारायण, हयग्रीव और परशुराम जी का अवतार रूप धारण किया था. ब्रह्मा जी के पुत्र अक्षय का प्रादुर्भाव भी अक्षय तृतीया के दिन हुआ था. अक्षय तृतीया के दिन से बद्रीनाथ की प्रतिमा स्थापित कर पूजा की जाती है और इस दिन से बद्रीनाथ के लक्ष्मी-नारायण जी का दर्शन किया जाता है.

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *