आर्टिकल 370 : अमेरिका ने बोला ‘शान्ति बनाये रखें’

केंद्र सरकार के ऐतिहासिक फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म कर जम्मू-कश्मीर राज्य के दो केंद्रशासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया गया है. इस फैसले के बाद सभी राजनीतिक पाटीयों ने समर्थन किया और बोला की इससे देश में शांति लौटेगी. america article 370 kashmir

इसके अलावा अमेरिका ने भी सोमवार को कहा कि वह  भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में घटनाक्रम पर करीब से नजर रख रहा है. साथ ही उसने सभी पक्षों से नियंत्रण रेखा LOC पर शांति और स्थिरता बनाए रखने की अपील की है.

इसके अलावा अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोर्गन ओर्टागस ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि, ‘‘हम नियंत्रण रेखा पर सभी पक्षों से शांति और स्थिरता बनाए रखने की अपील करते हैं’’. america article 370 kashmir

‘सुपर 30’ बनी आठ राज्यों में टेक्स-फ्री होने वाली पहली फिल्म

इसके अवाला उन्होंने कहा की, ‘‘हम जम्मू कश्मीर की घटनाओं पर करीब से नजर रख रहे हैं. हमने जम्मू कश्मीर के संवैधानिक दर्जे में तब्दीली की भारत की घोषणा और राज्य को दो केन्द्रशासित प्रदेशों में बांटने की योजना को संज्ञान में लिया है.’’ इसके अलावा कहा की, दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि यह निर्णय देश की अखंडता और जम्मू-कश्मीर के हित में हैं.

हालांकि साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह उनकी निजी राय है. उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘मेरी व्यक्तिगत राय रही है कि 21वीं सदी में अनुच्छेद 370 का औचित्य नहीं है और इसको हटना चाहिए. ऐसा सिर्फ देश की अखंडता के लिए ही नहीं, बल्कि जम्मू-कश्मीर जो हमारे देश का अभिन्न अंग है, के हित में भी है. अब सरकार की यह जिम्मेदारी है की इस का क्रियान्वयन शांति और विश्वास के वातावरण में हो.’

हालांकि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और जम्मू एवं कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) में बांटने के सरकार के कदम का कड़ा विरोध किया. गृहमंत्री अमित शाह की ओर से प्रस्तावित विधेयक पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा कि केंद्र सरकार देश को टुकड़े-टुकड़े करना चाहती है. america article 370 kashmir

बालों को Straight सीधा करने के घरेलु उपाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *