देश का नया रक्षक “अपाचे” वायुसेना में शामिल

देश का नया रक्षक आया है जिसने न सिर्फ देश बल्कि विदेशों में भी अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया है. भारत का नया रक्षक इतना ज्यादा खतरनाक और तेज है कि पलक झपकते ही अपने दुश्मनों को खाक में मिला सकता है.

इसके भारतीय वायुसेना में भारतीय वायुसेना में देश का नया रक्षक शामिल हुआ हैं देश का नया रक्षक इतना खतरनाक है कि इसने अपनी इसी क्षमता के कारण न सिर्फ देश बल्कि विदेशों में भी अपनी शामिल होने से जहां वायुसेना की ताकत में इजाफा हुआ है.

वहीं देश में आए दिन आतंकी घटनाओं को अंजाम देने वाले पड़ोसी देश पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक जैसे आपरेशन को अंजाम देने में देश को और अधिक आसानी होगी. माना जा रहा है कि इस नए रक्षक के डर से अब पाकिस्तान कांपने लगेगा.

अमेरिका-चीन में फिर छिड़ा ट्रेड वॉर

बता दें कि यह रक्षक कोई और बल्कि भारतीय वायुसेना में शामिल नया लड़ाकू हेलीकाप्टर अपाचे है. दुनिया के सबसे आधुनिक अटैक हेलीकाप्टरों में शुमार अपाचे को ‘लादेन किलर’ के नाम से भी जाना जाता है. क्योंकि अमेरिका ने पाकिस्तान के एबटाबाद में अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को खत्म करने के लिए अपाचे हेलीकाप्टरों का ही इस्तेमाल किया था.

दुनिया के सबसे घातक इस अटैक हेलीकाप्टर को अमेरिका की बोइंग कंपनी ने बनाया है. और अपनी तरह के ऐसे 22 अपाचे हेलीकाप्टर को खरीदने के लिए भारत ने अमेरिका से डील किया है. अपाचे पहला ऐसा हेलिकॉप्‍टर है जो भारतीय सेना में विशुद्ध रूप से हमले करने का काम करेगा.

365 किमी की रफ्तार से दुश्मन के सीने पर करेगा वार

भारतीय सेना फिलहाल रूस निर्मित एमआई-35 का इस्‍तेमाल वर्षों से कर रही है जो अब रिटायरमेंट की कगार पर है. ऐसे में अपाचे भारतीय वायुसेना का नया बाडी गार्ड बनकर उभरा है. अपाचे हेलीकाप्टर की अधिकतम रफ्तार 365 किलोमीटर प्रति घंटा है जिसे दुश्मन चाह कर भी इंटरसेप्ट नहीं कर सकता है.

इसकी सबसे बात यह है कि इसमें एक बार में 16 एंटी टैंक मिसाइल छोड़ने की क्षमता है. जो युद्ध के मैदान में कोहराम मचाने की काबिलियत रखता है. साथ ही इसमें हेलीकॉप्टर के नीचे 30 एमएम की दो राइफल लगी है जो कि एक बार में 1,200 गोलियां दाग सकती है.

कंप्यूटर की तरह तेज बनाये अपना दिमाग

अपाचे ज्यादा वजनी नही है. इसका वजन मात्र 5,165 किलोग्राम है जिसमें दो पायलटों के बैठने की जगह होती है. इस हेलिकॉप्टर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह युद्ध क्षेत्र की हर परिस्थिति में टिका रह सके.  

आपको यह भी बता दें कि इसकी उड़ान रेंज 550 किलोमीटर हैं जो कि एक बार में लगातार 3 घंटे तक उड़ सकता है. नाइट विजन सिस्टम से लैस यह घातक हेलीकाप्टर रात में भी दुश्मनों की टोह लेने, हवा से जमीन पर मार करने वाले रॉकेट दागने और मिसाइल आदि ढोने में सक्षम हैं. सिर्फ इतना ही देश में नक्सलवादियों की चुनौती से निपटने के लिए भी इन हेलीकाप्टरों का इस्तेमाल किया जा सकता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *