अमित शाह बोले, मैं भी डरा हुआ था

राजनीति के चाणक्य के नाम से मशहूर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बारे में अगर कहा जाए कि शाह भी डरते हैं तो शायद ही कोई इस बात पर विश्वास करेगा. लेकिन इस बात का खुलासा खुद अमित शाह ने किया है कि वह जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A हटाए जाने के दौरान राज्यसभा अनुच्छेद 370 बिल पेश करते वक्त डरे हुए थे.

कर्नाटक बाढ़: शाह आज करेंगे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा

उन्होंने कहा कि वह इस बात से डरे हुए थे कि विपक्ष 370 पर हंगामा कर सकता है और हुआ भी ऐसा ही.  अमित शाह ने चेन्नई में राज्यसभा सभापति और उप राष्ट्रपति वैंकेया नायडू के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही. शाह बताते हैं कि देश के गृहमंत्री के तौर पर अनुच्छेद 370 को लेकर फैसला लेने के दौरान उनके मन में किसी भी प्रकार का कोई भी असमंजस नहीं था. वो कहते हैं मैं 370 हटाए जा ने के बाद घाटी के हालातो को लेकर पूरी तरह से निश्चिंत था.

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कहते अनुच्छेद 370 पर फैसला लेते हुए मेरे मन में एक ही बात चल रही थी कि अगर 370 हटा दी जाती है तो कश्मीरी आवाम की जिंदगी पहले से बेहतर हो सकती हैं वहां भी विकास हो सकता है. शाह आगे कहते हैं कि 370 पर फैसला लेते वक्त मैने ये सोचा कि इससे घाटी में आतंकवाद को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है.

मंद बुद्धि बच्चों का मेमोरी पॉवर बढ़ने एवं बैक पैन, जॉइंट पैन, के चमत्कारी उपाय।

इस दौरान शाह अनुच्छेद 370 बिल को पहले राज्यसभा में पेश करने की अपनी रणनीति का खुलासा करते हुए बताते हैं कि ‘राज्यसभा में हमारा पूर्ण बहुमत नहीं है इसलिए हमने तय किया कि पहले वहां बिल पेश करेंगे और फिर लोकसभा में जाएंगे. इसके लिए उन्होंने राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को भी धन्यवाद करते हुए कहा कि आपने ऊपरी सदन की गरिमा नीचे नहीं गिरने दी इसके लिए आपका आभार.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *