चंद्रयान-2: चांद की कक्षा में प्रवेश पर बोले सिवन, यह दुल्हन के ससुराल जाने जैसा

22 जुलाई 2019 को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लांच किए गए भारत के महत्वाकांक्षी चंद्रयान-2 ने आज सबह 9 बजकर 2 मिनट पर सफलता पूर्वक चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश कर लिया है. यह पल सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण था क्योंकि इस दौरान जरा सी भी चूक होती तो चंद्रयान-2 असीम अंतरिक्ष में कहीं खो जाता. chandrayaan 2 k sivan

हालांकि चंद्रयान-2 ने चांद की कक्षा में प्रवेश कर लिया है और अब यह 7 सितंबर को चंद्रमा के दक्षिणी छोर पर लैंड करेगा. इस मिशन के बारे में जानकारी देते हुए इसरो के चेयरमैन के सिवन ने आज बताया कि चांद की कक्षा में प्रवेश करने के बाद चंद्रयान-2 चांद की परिक्रमा कर रहा है और हम सभी पूरी तरह से एक्यूरेसी पर काम कर रहे हैं ताकि मिशन चंद्रयान-2 को चांद के दक्षिणी सतह पर उतार सकें. 

75वीं जयंती पर याद आए पूर्व पीएम राजीव गांधी, दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

सिवन कहते हैं कि 28 से 30 अगस्त और 1 सितंबर को चंद्रयान-2 को 18 हजार किलोमीटर की ऊंचाई से 100/100 किलोमीटर की ऊंचाई तक लाया जाएगा इसके बाद 2 सिंतबर को इसका लैंडर ऑर्बिटर से अलग होगा. इसके सारा ध्यान लैंडर पर केंद्रित किया जाएगा. और यह सब बिल्कुल उसी तरह होगा जैसे एक दुलहन अपने माता-पिता के घर से विदा लेकर ससुराल में प्रवेश करती है.

इसरो चीफ आगे बताते हुए कहते हैं कि 7 सितंबर को 1.55 सुबह पावर मिशन शुरू होगा और 15 मिनट बाद 27 डिग्री साउथ 22 डिग्री ईस्ट चांद की दक्षिणी सतह पर इसे उतारा जाएगा. लैंडिंग के 3 घंटे 10 मिनट बाद सोलर पैनल रोवर काम करना शुरू करेगा. और उसके 3 घंटे बाद रोवर प्रज्ञान लैंडर से निकलेगा, इसके 4 घंटे बाद लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा. chandrayaan 2 k sivan

सिवन बताते है कि इसरो ने चंद्रयान-2 की लैंडिग के ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को आमंत्रण भेजा है हालांकि अभी उनके तरफ से आने की पुष्टि नहीं हुई है. सिवन कहते हैं कि हम जो करना चाह रहे हैं उसमें जरूर सफल होंगे क्योंकि हमने इसके लिए काफी तैयारियां की हैं.

गोलगप्पे बनाने के आसान तरीका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *