चांद पर फिर कदम रखेगा भारत

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संघठन यानि इसरो ने बुधवार को घोषणा की है की देश के महत्वाकांक्षी चंद्रमिशन चंद्रयान-2 का परिक्षण जुलाई के महीने में 9 और 16 जुलाई के बीच होगा. इसरो के मुताबिक चंद्रयान-2 में 3 मॉड्यूल ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर होने की बात कही गई है. अगर बात चंद्रमिशन चंद्रयान-2 की करे तो जीएसलवी मार्क-3 ऑर्बिटर के अलावा लैंडर को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करेगा और इसके बाद उसे चंद्रमा की कक्षा में पहुंचाएगा. chandrayaan 2

बाकी तीन चरणों के लिए RSS ने दिखाई ताकत, उतारे 80 हजार स्वयंसेवक

वहीं बताया जा रहा है की चन्द्रमा की कक्षा में पहुंचने के बाद लेंडर निकलकर चन्द्रमा की धरती पर लैंड करेगा. इसके साथ ही आपको बता दे की चांद की धरती पर लैंडिंग के बाद रोवर उससे निकलेगा और चन्द्रमा पर विभिन्न प्रयोगो को करेगा. साथ ही इसरो ने इस बात की उम्मीद भी जताई है कि चंद्रयान इस साल 6 सितंबर को चांद की धरती पर कदम रखेगा. आपको यहां ये भी बता दे कि चंद्रयान-2 का वजन 3290 किलोग्राम होगा. गौरतलब है की इससे पहले चंद्रयान-2 के कुछ टेस्ट पूरा न हो पाने के कारण इसके लॉन्चिंग को रोक दिया गया था. chandrayaan 2

मंद बुद्धि बच्चों का मेमोरी पॉवर बढ़ने एवं बैक पैन, जॉइंट पैन, के चमत्कारी उपाय।

अब जैसा की इसरो ने चंद्रयान-2 के परिक्षण के ताऱीखों की धोषणा कर दी है तो आने वाले दिनों में भारत अब अंतरिक्ष में एक और किर्तिमान रचने जा रहा है. आपको बता दे की इसरो ने काफी किफायती और एक बार में मंगलयान मिशन को पूरा कर पूरी दुनिया को चौकाते हुए अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया था.  chandrayaan 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *