PM पद पर कांग्रेस का “यूटर्न”, कहा-सबसे पुरानी पार्टी को पहले मिले मौका

बीते एक दिन पहले कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने 23 मई के बाद गैर एनडीए दलों के साथ मिलकर केंन्द्र में सरकार बनाने के लिए पार्टी के पीएम पद का त्याग करने वाले बयान से अगले दिन यानि आज पलटी मारते हुए कहा कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और अगर 5 साल सरकार चलाना है तो सबसे पहले कांग्रेस को ही पीएम पद का न्योता मिलना चाहिए.

लोकसभा चुनाव : बंगाल में अंतिम रण के लिए CRPF की 800 कंपनियां तैनात

उन्होंने इस बात को झूठ बताया कि कांग्रेस प्रधानमंत्री पद के लिए दावा नही करेगी या वह इसकी खातिर इच्छुक नही है. गौरतलब है कि इससे पहले कल गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि उनकी पार्टी का शुरू से ही लक्ष्य रहा है कि देश की सत्ता में एनडीए नही आनी चाहिए और इसके लिए हम कोई भी कुर्बानी देने को तैयार है.

अगर कांग्रेस को विपक्षी गठबंधन में प्रधानमंत्री पद नही भी मिलता तो भी कोई बात नहीं है. उन्होने कहा था कि हम सर्व सम्मति से जो भी फैसला होगा उसके साथ जाएंगे. राजनीतिक जानकार आजाद के इस बयान को सत्ता की बेचैनी और गठबंधन करने की आस के रूप में देख रहें हैं. बता दें कि गठबंधन को अमलीजामा पहनाने के लिए यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने 23 मई को विपक्षी दलों की एक सर्वदलीय बैठक बुलाया है.

कंप्यूटर की तरह तेज बनाये अपना दिमाग

जिसमें सभी विजित दलों के साथ गठबंधन कर सरकार बनाने की रणनीति पर चर्चा की जाएगी. हालांकि जानकारों का यह भी मानना है कि सभी विपक्षी दलों के अपने-अपने राजनीतिक हित हैं. साथ ही विपक्ष में पीएम पद के कई दावेदार भी हैं ऐसे में गठबंधन अधर लटका हुआ दिख रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *