क्या दिल्ली में विभाजित हुआ मुस्लिम मतदाताओं का वोट ?

दिल्ली में सातो सीटों पर वोटिंग ख़त्म हो चुकी है। सभी पार्टियों ने अपने- अपने तरीके से जनता को लुभाने का प्रयास किया और दिल्ली में चुनाव संपन्न हो जाने के बाद सभी पार्टियां अपनी – अपनी जीत का दावा कर रही है.

आज दोपहर की बड़ी ख़बरें | 14th May 2019

दरअसल, इस बार दिल्ली में कुल 60.5 प्रतिशत वोटिंग हुई है। अगर हम बात करे 2014 लोकसभा चुनाव के तो इस बार 5 फीसदी वोटिंग कम हुई है। अब देखना ये है की किस पार्टी को इसका नुकसान होता है. सभी दल इस बात को लेकर चिंतित है. दिल्ली में मुस्लिम मतदाताओं की संख्या अच्छी मात्रा में है और मुस्लिम मतदाताओं का वोट किसी भी पार्टी के लिए काफी महत्वपूर्ण है.

शक्तिशाली बेल के पत्ते जिससे बीमारियां भी घबराती है

इस बार के चुनाव में कहा जा रहा है कि यहां मुस्लिम वोट बटते हुए नज़र आये है. सूत्रों की माने तो ज़्यदातर मुस्लिम वोट आम आदमी पार्टी और कांग्रेस में विभाजित होती हुई नज़र आ रही है। इससे ये साफ़ होता है की वोट बंटवारे को लेकर सभी पार्टियों में डर का माहौल बन गया है।

आप और कांग्रेस ने इस वोट विभाजन को लेकर बीजेपी के ऊपर टिपण्णी करते हुए कहा की वो बीजेपी को होने वाले फायदे को लेकर चिंतित है। वही कांग्रेस का ये मानना है की वो इस चुनाव में अच्छा प्रदशन कर रही है। साथ ही कांग्रेस ने यह भी कहा की लोग बड़े नजरिए को देखते हुए नैशनल पार्टी को वोट देना पसंद करेंगे।


वही बात करे अगर दिल्ली में मुस्लमान बहुल इलाकों की वोटिंग के तो बल्लीमारान में 68.3%, मटिया महल में 66.9% और सीलमपुर में 65.5% पोलिंग हुई। त्रिलोकपुरी में 65.4%, मुस्तफाबाद में 65.2%, बाबरपुर में 62.1% और चांदनी चौक में 59.9% वोटिंग हुई । ओखला लोकसभा सीट की तो इस ये काफी अलग दिखाई पड़ रहा है यहाँ केवल 54.8% वोटिंग हुई है. वही आरक्षित क्षेत्रों के वोटर काफी अहम दिखाई पड़े ।

70 विधानसभा सीटों में 12 अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। 10 आरक्षित क्षेत्रों में 60% से ज्यादा मतदान हुआ है । पटेल नगर और बवाना में 60% से कम मतदान हुआ है. गौरतलब है कि दिल्ली में सात लोकसभा की सीटें है.

2014 के लोकसभा चुनावों में राजधानी दिल्ली की सभी लोकसभा सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज किया था. अब इस बार कौन सी पार्टी यहां बाजी मारती है ये तो 23 मई को ही पता चल पाएग जब लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *