धारा 370 खत्म होते ही जश्न में डूबा देश, मोदी सरकार ने लिया ऐतहासिक फैसला

केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने कश्मीर को लेकर ऐतिहासिक फैसला लेते हुए आज राज्यसभा में कश्मीर आरक्षण संशोधन बिल पेश कर दिया है। अब जिसके तहत अनुच्छेद 370 का खात्मा किया जाएगा। आज गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने का प्रस्ताव पेश किया है। jammu kashmir article 370

उन्होंने भारत के संविधान के अनुच्छेद 370 के खंड 1 के सिवा इस अनुच्छेद के सारे खंडों को रद्द करने की सिफारिश की। उन्होंने राज्य को केंद्र शासित प्रदेश बनाने की सिफारिश की। कश्मीर को दो हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में जम्मू-कश्मीर होगा जहां विधानसभा होगी वहीं दूसरे हिस्से में लद्दाख होगा जो पूरी तरह से एक केंद्र शासित प्रदेश होगा. jammu kashmir article 370

आपको बता दें कि इसके अलावा उन्होंने राज्य के पुनर्गठन का प्रस्ताव भी पेश किया जिसके बाद विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। बिल के पेश होने के बाद से ही विपक्षी नेता सदन में हंगामा किया जिसके बाद सदन को थोड़ी देर के लिए स्थगित करना पड़ा। वहीं विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कश्मीर में युद्ध जैसा माहौल बनाया गया और राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को नजरबंद किया गया है।

घाटी में तनाव के कारण बाजार में हुई भारी गिरावट

इसी बीच अपना विरोध जताते हुए पीडीपी के दो सासंदों में से एक मीर फयाज ने अपना कुर्ता फाड़ लिया। इसके अलावा दोनों सासंदों ने भारत के संविधान को भी फाड़ने की कोशिश की। इस दौरान वहां जमकर हंगामा हुआ। पीडीपी सासंद की इस हरकत से नाराज होकर राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने मीर फयाज और नजीर अहमद को सदन से जाने के लिए कहा गया। वहीं कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने पीडीपी सांसदो के संविधान फाड़ने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘हम संविधान के साथ खड़े हैं।

हम हिंदुस्तान के संविधान की रक्षा के लिए जान की बाजी लगा देंगे लेकिन आज भाजपा ने संविधान की हत्या कर दी है। वहीं इस मुद्दे पर वर्तमान में टीवी चेनलों पर डिबेट का सिलसिला लगातार जारी है और विपक्ष इस मुद्दे पर कड़ा विरोध जता रहा है। वहीं देश के कई हिस्सों में धारा 370 को हटाने को लेकर लिए गए फैसले पर जश्न का माहोल है। jammu kashmir article 370

एक मिर्च रोजाना खाने के फायदे जानकर हैरान रह जायेंगे आप।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *