16 C
New Delhi
23/02/2019
Mobilenews24 | Hindi News, Latest News in Hindi,
kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre
राज्य राष्ट्रीय

केजरीवाल व्यापारियों और नागरिकों को गुमराह करना बंद करे :मनोज तिवारी




दिल्ली भाजपा प्रवक्ता श्री अशोक गोयल एवं श्री प्रवीण शंकर कपूर ने आम आदमी पार्टी द्वारा दिल्ली के व्यापारियों और नागरिकों को गुमराह करने के प्रयास की निंदा की है और कहा है कि उसकी पार्टी के नेता दलीप पांडे द्वारा कन्वर्जन चार्ज फंड को अन्य मद में खर्च करने संबंधी बयान पूरी तरह झूठ है और यह नगर निगमों को दिल्ली सरकार द्वारा देय निधि उपलब्घ न कराने और 351 मार्गों को कमर्शियल घोषित करने की अधिसूचना न जारी करने तथा अनधिकृत कालोनियों के नियमितिकरण के लिये ले आउट प्लान का कार्य शुरू करने के लिये अपेक्षित निधि उपलब्ध नहीं कराने पर पर्दा डालने का प्रयास है। यदि ये कार्य पूरे किये गये होते तो आज दिल्ली के लोगों की 50 प्रतिशत समस्यायें सुलझा ली गई होतीं। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre 

भाजपा प्रवक्ताओं ने कहा कि आम आदमी पार्टी ने चैथे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार तीनों नगर निगमों को देय निधि उपलब्ध नहीं कराई जो दिल्ली उच्च न्यायालय के दबाव में ही सरकार ने इसे स्वीकार किया था। अब तक तो 5वें दिल्ली वित्त आयोग की रिपोर्ट लागू हो जानी चाहिये थी किन्तु सरकार अभी भी उसे दबाये बैठी है। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre 

रजिस्ट्रशन फीस संग्रहण के मुद्दे को उठाया है। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

इसके बावजूद तीनों नगर निगमों ने विकास के लिये सब कुछ किया है जो वे कर सकते थे। दलीप पाण्डे ने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम द्वारा कन्वर्जन और पार्किंग चार्ज तथा रजिस्ट्रशन फीस संग्रहण के मुद्दे को उठाया है।  kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

एक बार वसूली जाने वाली रजिस्ट्रेशन फीस एक सामान्य निधि है और इसका ई.एस.सी.आर.ओ.डब्ल्यू. (ESCROW) से कोई संबंध नहीं है। यह संबंधित नगर निगमों के खर्च को पूरी करने के लिये होती है। इसके अतिरिक्त दिल्ली मास्टर-2021 के अनुसार केवल पार्किंग चार्ज को ही ई.एस.सी.आर.ओ.डब्ल्यू. (ESCROW) खाते में आरक्षित रखा जाना चाहिये जबकि कन्वर्जन चार्ज का उपयोग करने के लिये ऐसा कोई प्रतिबंध नहीं है।  kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre  

दलीप पाण्डे को आंकडें़ दोबारा चेक करने चाहिये क्योंकि 904 करोड़ का कन्वर्जन चार्ज और 60 करोड़ का पार्किंग चार्ज का आंकड़ा गलत है। वास्तव में यह राशि इससे अधिक है और निधि का किसी अन्य मद में उपयोग नहीं हुआ है और यह निधि नियमानुसार ई.एस.सी.आर.ओ.डब्ल्यू. (ESCROW) खाते में ही है।  kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre




जो कुछ भी खर्च हुआ है वह दक्षिणी नगर निगम द्वारा कार पार्किंग या बाजारों के चारों ओर रख-रखाव के कार्य या निर्माण के लिये हुआ है। इस नगर निगम ने मुनिरका, हौज खास, कालका जी, न्यू फ्रेंड्स कालोनी, भोगल, राजौरी गार्डन, सुभाष नगर ब्लाॅक-6, सुभाष नगर ब्लाॅक-10 में पिछले 5 वर्षों के दौरान 8 कार पार्किंगों का निर्माण किया है। इसके अतिरिक्त राजौरी गार्डन और डिफेंस कालोनी में वर्क आॅर्डर दे दिया गया है। 18 मुख्य मल्टी लेवल पार्किंग की कार्य योजना बना ली गई है और ग्रेटर कैलाश में पार्किंग के लिये टेंडर आमंत्रित कर दिये गये हैं। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

पार्किंग चार्ज के 54 करोड़ रूपये सुरक्षित हैं kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

उत्तरी नगर निगम ने भी इसी प्रकार करोल बाग, कमला नगर, माॅडल टाउन और पीतमपुरा (निर्माणाधीन) में कार पार्किंग का निर्माण किया है। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन और दंगल मैदान के सामने पार्किंग की योजना दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा सम्पूर्ण एरिया प्लाॅनिंग में विलंब करने के कारण लंबित है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने लाल किले के समीप परेड ग्राउंड में 2012 से ही बड़ी पार्किंग का कार्य शुरू कर दिया है जहां 2009 से 2011 तक निर्माण कार्य हुआ था। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre 

पूर्वी दिल्ली नगर निगम आर्थिक संकट में है और इसके बावजूद इसने अच्छी नागरिक सेवायें दी हैं। कृष्णा नगर में एक पार्किंग स्थल का निर्माण हो रहा है और ई.एस.सी.आर.ओ.डब्ल्यू. (ESCROW)खाते में पिछले 5 वर्षों में एकत्र पार्किंग चार्ज के 54 करोड़ रूपये सुरक्षित हैं। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre  

पर्यावरण सुधार पर कुछ भी खर्च नहीं हुआ।  kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre   

भाजपा अरविंद केजरीवाल सरकार को चुनौती देती है कि वह जनता को यह बताये कि उसने चैथे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों को स्वीकृत करने के बाद भी निगमों को धन क्यों नहीं दिया है जो कुल मिलाकर लगभग 5,500 करोड़ है। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre   

तीनों नगर निगमों से हिसाब लेने से पहले केजरीवाल की पार्टी को दिल्ली को यह बताना चाहिये कि केजरीवाल सरकार ने दलित तथा असंगठित मजदूर निधि को अन्य मद में क्यों खर्च किया जबकि उसके पास टैक्स से प्राप्त पर्याप्त धन था। दिल्ली यह भी जानना चाहती है कि पाॅल्यूशन सेस के 1200 करोड़ रूपये कहां गये क्योंकि पर्यावरण सुधार पर कुछ भी खर्च नहीं हुआ। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

लेखक मुफ्त में सरकारी जमीन और भत्ता पाने के लिए लिखते है : अनंत कुमार हेगड़े

यदि पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने ई.एस.सी.आर.ओ.डब्ल्यू. (ESCROW) से थोड़ा धन अन्य मद में डाला है तो यह दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार 250 करोड़ रूपये की सीड मनी तक न दिये जाने के केजरीवाल सरकार की अपराधिक लापरवाही के परिणाम स्वरूप है। kejriwal waipariyo ko gumrah krna band kre

5 मिनट में 10 बिमारियों का ईलाज







Related posts

एे दिल है मुश्किल की मुश्किलें हुई दूर

admin

बेतरतीब तरीके से अवैध पार्किंग वालों की खैर नहीं : एसएचओ

admin

केजरीवाल सरकार से पेट्रोल – डीजल पर वैट कम करने की मांग

admin