25 C
New Delhi
21/03/2019
Mobilenews24 | Hindi News, Latest News in Hindi,
राज्य राष्ट्रीय

मायावती और अखिलेश की साझा प्रेस वार्ता आज

 

लखनऊ

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी (एसपी) अध्यक्ष अखिलेश यादव शनिवार को लखनऊ में साझा प्रेस वार्ता करने जा रहे हैं। यह बात तय है कि दोनों आगामी लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन की घोषणा करेंगे। यह भी संभव है कि इस दौरान सीटों के बंटवारे को लेकर ऐलान भी होगा। प्रेस वार्ता दोपहर 12 बजे होगी। यूपी की राजनीति और खासकर एसपी-बीएसपी के लिए शनिवार का दिन बेहद अहम होगा. Mayawati akhilesh press confrence 

त्रिस्तरीय जीएसटी लगाएं वित्त मंत्री : कैट

सीटों का होगा ऐलान

गौरतलब है कि यूपी की राजनीति में दो दिग्गज नेता मायावती और अखिलेश यादव साथ साथ मीडिया से बात करेंगे। प्रेस वार्ता लखनऊ में होगी जिसमें एसपी सचिव और बसपा महासचिव की ओर निमंत्रण भेजा गया है। खास बात यह है कि दोनों पार्टियां इससे पहले राम मंदिर आंदोलन के दौर में 1993 में सपा और बसपा ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और भाजपा को शिकस्त दिया था और सरकार बनाई थी।Mayawati akhilesh press confrence

पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने डीपीसीसी की कमान संभाली

कांग्रेस गठबंधन से बाहर

महागठबंधन में अहम भूमिका निभाने को तैयार कांग्रेस को इस वार्ता में शामिल नहीं किया गया है। जिससे यह तय हो गया है कि उत्तर प्रदेश की इस गठबंधन में अब कांग्रेस शामिल नहीं होगी। पहले ऐसा माना जा रहा था कि मायावती अपने जन्मदिन यानी 15 जनवरी को गठबंधन का ऐलान करेंगी लेकिन दोनों पार्टियों ने इसका ऐलान 12 जनवरी को ही करने जा रही है। उत्तर प्रदेश में लोकसभा की कुल 80 सीटें हैं। दोनों पार्टियां 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है। ऐसे में कांग्रेस के पास कोई रास्ता नहीं बचता है उसे मात्र दो सीटों पर संतोष करना पड़ेगा जिससे यह भी तय है कि वह इस गठबंधन में शामिल नहीं होगी। जिसका फायदा भाजपा को मिलेगा।Mayawati akhilesh press confrence

तुरंत खूबसूरत बनने का तरीका

ऐसा माना जा रहा है कि रालोद इस गठबंधन में शामिल होगा। निश्चिततौर पर जिस प्रकार का गठबंधन दोनों दलों बनाने का तय है कि इससे भाजपा को नुकसान तो होगा। लेकिन कांग्रेस के बाहर होने से कई तरह की संभावनाएं अभी हैं। फिलहाल शनिवार का दिन यूपी की ही राजनीति नहीं बल्कि देश की राजनीति में बदलाव लाएगी। जैसे की 2004 में 15 जनवरी को जब सोनिया गांधी और शरद पवार मिले थे उसके बाद केंद्र में यूपीए ने दस वर्ष तक सत्ता में रही।Mayawati akhilesh press confrence

Related posts

देश को मोदी की नहीं बल्कि गाँधी की जरूरत है : रविश कुमार

admin

एक क्लिक में जानिए अब तक की प्रमुख विशेष ख़बरें

admin

योगी ढोंगी है उन्हें प्यार के बारे में कुछ नहीं मालूम है प्यार तो डिंपल भाभी यूपी के लोगों से करती है : राहुल गाँधी

admin