पेट्रोल, डीजल की कीमतों से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता: रामदास आठवले

 

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के कारण जनता को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ऐसे नेताओं द्वारा दिए गये गैरजिम्मेदाराना बयानों निराशा का बन रहा है. पेट्रोल की कीमतों के कारण जनता के किचेन का बजट बिगड़ गया है और भाजपा के मंत्री यह कहते फिर रहे हैं कि उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि यो मंत्री. इसलिए सबकुछ उन्हें फ्री में ही मिलता है.

जी हाँ मोदी सरकार में समाज कल्याण एवं अधिकारिता मंत्री रामदास आठवले ने राजस्थान में एक कार्यक्रम के दौरान पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर संवेदनहीन बयान देते हुए कहा कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्या है इससे उन्हें फर्क नहीं पड़ता है क्योंकि उनकी गाड़ी में सरकार पेट्रोल भरवाती है. साथ ही उन्होंने कहा कि जब पेट्रोल और डीजल सरकार के पैसों से आता है तो पेट्रोल और डीजल कीमतों के बारे में क्या सोचना. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अगर वो मंत्री पद से हट जायेंगे तो उन्हें भी समस्या होगी. उन्होंने आगे कहा कि पेट्रोल की कीमतों पर नियंत्रण पाने के लिए सरकार गंभीरता से प्रयास कर रही है. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान को यह जिम्मेदारी दी गई है.

बहरहाल मंत्री जी के इस बयान से यह बात साबित हो जाती है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी से जनता की जेबों पर असर होता है न कि मंत्रियों और सरकारी अधिकारियों को. पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर सरकार को घेरने में जुटे विपक्ष को एक मुद्दा मिल गया है. गौरतलब है कि विपक्ष पेट्रोल डीजल की कीमतों को  2019 लोकसभा चुनावों में एक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने में लगा हुआ है.