न्यायपालिका में जातिवाद, जज ने पीएम को लिखा पत्र

इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस और पूर्व प्रमुख सचिव न्याय रंगनाथ पाण्डेय ने हाई कोर्ट व सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्तियों पर सवाल उठाते हुए पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि न्यायपालिका में पूरी तरह से जातिवाद और परिवारवाद हावी हो गया है और ज्ञान और अनुभव की कमी के बावजूद जातिगत आधार पर लोगों को न्यायधीश और मुख्य न्यायधीश बनाया जा रहा है.

अपने पत्र में उन्होंने कहा है कि यह न्यायपालिका का दुर्भाग्य है कि मौजूदा समय में न्यायपालिका जातिवाद और वंशवाद की आग में झुलस रही है और किसी संबंधी जज के परिवार से होना ही अगले जज के चुनाव को सुनिश्चित करता है. PM Modi nepotism Allahabad HC

दुनिया का सबसे महंगा तलाक, पत्नी को मिलेगा 38 अरब डॉलर

उन्होंने यह भी लिखा कि हाईकोर्ट और सर्वोच्च न्यायालय को जजों की नियुक्ति के लिए इस समय देश में कोई मापदंड निर्धारित नहीं किया गया है. जबकि राजनीतिक पार्टियों कार्यकर्ता का मूल्यांकन उसके कार्यों से किया जाता है और प्रतियोगी परीक्षाओं में परीक्षा के जरिए निर्णय लिय़ा जाता है.

प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र जस्टिस रंगनाथ पांडेय बताते हैं कि उन्होंने ’34 साल के अपने सेवाकाल में कई बार सुप्रीम कोर्ट व हाई कोर्ट के जजों को देखा है जिनका न्यायिक ज्ञान संतोष करने योग्य नहीं है.’ वह आगे लिखते  हुए कहते हैं कि न्यायपालिका की एकता, अखंडता और इसकी गुणवत्ता पर खतरा मंडरा रहा है. इसलिए इसकी गरिमा को बनाए रखने के लिए सरकार को कठोर निर्णय लेने की आवश्यकता है. PM Modi nepotism Allahabad HC

जिम जाने वालों, घर पर प्रोटीन पाउडर बनाने के उपाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *