PoK में भी बुलंद हुई पाक के खिलाफ आवाज, भारत के साथ जाने की मांग

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने से तिलमिलाया पाकिस्तान हर दिन कोई न कोई हरकत करता रहता है. उनसे दुनियाभर से कश्मीर मामले में हस्तक्षेप करने की मांग भी की लेकिन हर जगह से उसे निराशा ही हाथ लगी. यहां तक कि पाकिस्तान के दोस्त चीन ने भी इस मामले में उसका साथ देने से साफ मना कर दिया है. pok pakistan india

वहीं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी उसे तगड़ा झटका लगा है जहां यूएनएससी के सदस्य देश पोलैण्ड ने पाक को इस मामले को द्विपक्षीय तरीके से ही सुलझाने की हिदायद दे दिया है. ऐसे में आर्टिकल 370 के मामले में पाकिस्तान को हर तरफ से लगातार झटके ही मिल रहे हैं इस कड़ी में अब पाकिस्तान की मुश्किलें और भी ज्यादा बढ़ गई हैं.

दरअसल पाक के कब्जे वाले कश्मीर के लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाना शुरु कर दिया है. पीओके के क्षेत्र गिलगिट-बाल्टिस्तान के स्थानीय निवासियों ने भारत के संविधान पर भरोसा जताते हुए भारत के साथ जाने के लिए अपनी आवाज को बुलंद करना शुरु कर दिया है. इतना ही नहीं गिलगित-बाल्‍टिस्‍तान के लोगों ने भारतीय संविधान में अपना प्रतिनिधित्व भी मांगा है. 

नसों का गुच्छा बन जाय तो क्या करें

हालांकि यह कोई पहली बार नहीं है जब पीओके में भारत के साथ जाने की मांग उठी हो. बता दें कि पीओके के गिलगित बाल्टिस्तान के लोग लंबे समय से भारत के साथ जाने के लिए आंदोलन कर रहे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक गिलगिट के लोगों के अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे सेंग एच. सेरिंग ने गृह मंत्री अमित शाह से मांग की है कि क्षेत्र के लोग भारत से जुड़ना चाहते हैं.

सेरिंग कहते हैं कि ‘गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि पाक अधिकृत कश्‍मीर जम्मू-कश्मीर का अभिन्न हिस्सा है और हम मानते हैं कि गिलगिट-बाल्टिस्तान भी भारत का अभिन्न हिस्सा है. गिलगिट-बाल्टिस्तान लद्दाख का विस्तार है. हम भारतीय संघ और संविधान के तहत अपने लिए अधिकार की मांग करते हैं.’

सेरिंग भारत सरकार से मांग करते हैं कि जम्‍मू-कश्‍मीर को बांटकर बनाए गए दोनों केंद्र शासित प्रदेशों में रिजर्व सीटों पर गिलगिट-बाल्टिस्तान के लिए भी सीटें होनी चाहिए. वो खुद को भारत का अभिन्न हिस्सा बताते हुए कहते हैं कि भारत की राज्यसभा और लोकसभा में भी हमारा प्रतिनिधित्व होना चाहिए. pok pakistan india

डॉलर के मुकाबले 38 पैसे कमजोर हुआ रुपया, जानें कारण..

बता दें कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को पाकिस्तान अपना हिस्सा बताता है लेकिन आज तक उसने पीओके के लिए कुछ भी नहीं किया है. वहां पर विकास करने की बजाय पाकिस्तानी सैनिक गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों पर जमकर अत्याचार करते हैं. कुछ समय पहले एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि पाकिस्तान गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों पर मानवता की सारी हदें पारकर केमिकल की टेस्टिंग करता है.

सबसे खास बात यह है कि पीओके में पाकिस्तान के सहयोग से ही चीन अपनी ओबोर परियोजना चला रहा है. जिसकी आड़ में चीनी सैनिको के साथ मिलकर पाक पीओके के लोगों का नरसंहार करने में लगा हुआ है. यही कारण है कि पीओके के लोग भारत के साथ जाने के लिए आंदोलन कर रहे हैं. pok pakistan india

One thought on “PoK में भी बुलंद हुई पाक के खिलाफ आवाज, भारत के साथ जाने की मांग

  • January 6, 2020 at 10:26 pm
    Permalink

    I needed to thank you for this great read!!
    I absolutely enjoyed every bit of it. I have got you
    book marked to check out new stuff you post?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *