अमेरिका ने भारत को दिया झटका

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत से नाराज़ होते हुए दिखाई दे रहे है। ट्रम्प ने भारत को विशेष तरजीह वाले देशों की सूची से बाहर कर दिया है और ये नियम 5 जून से लागू किया जायेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति ने ये निर्णय इसलिए लिए लिया है क्यूंकि उन्हें भारत से ये आश्वासन नहीं मिल पाया है कि वह अपने बाजार में अमेरिकी उत्पादों को बराबर की छूट देगा और उनका ये भी कहना है की भारत में पाबंदियों की वजह से उसे व्यापार में बहुत नुकसान झेलना पड़ रहा है। preferential trade agreement india and usa

6 साल बाद भी दीपिका पादुकोण का किरदार ‘नैना’ आज भी है लोकप्रिय

साथ ही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा की “मैंने ये निर्धारित किया है कि क्यूंकि भारत से ये आश्वासन नहीं मिल पाया है कि वह अपने बाजार में अमेरिकी उत्पादों को बराबर की छूट देगा तो भारत का ‘लाभार्थी विकासशील देश’ का दर्जा 5 जून को हटाना उचित होगा।” ट्रंप ने अमेरिकी सांसदों की उस दलील को भी नजरअंदाज कर दिया जिसमें कहा गया है कि इससे अमेरिकी कारोबार को हर साल 300 मिलियन डॉलर टैरिफ का अतिरिक्त भार पड़ेगा। preferential trade agreement india and usa

आपको बता दे की जीएसपी प्रोग्राम को साल 1970 में शुरू किया गया था और तब से ही भारत इसका सम्पूर्ण फायदा उठा रही है। ट्रम्प के इस घोषणा से भारत को काफी नुक्सान का सामना करना पड़ सकता है। बता दे यह कार्यक्रम अमेरिका का सबसे बड़ा कार्यक्रम है और इस प्रोग्राम को इसकी सूची में शामिल देशों के हजारों उत्पादों को अमेरिका में कर-मुक्त छूट की अनुमति देकर आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए लाया गया था।

झरते बालों को फिर से उगाना है तो इसे खाएं या लगाएं

वही ट्रम्प के इस फैसले से अमेरिकी सांसद बिलकुल ही नाखुश है उनका कहना है की  इससे अमेरिकी कारोबार को हर साल 300 मिलियन डॉलर टैरिफ का अतिरिक्त भार पड़ेगा। साथ ही भारत पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है और भारत को 5.6 अरब डॉलर का नुक्सान सहना पड़ सकता है। preferential trade agreement india and usa

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *