कांग्रेस : राहुल के इस्तीफे के बाद कौन होगा पार्टी का नया अध्यक्ष ?

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद से कांग्रेस पार्टी में एक तूफान सा मचा हुआ है और पार्टी इस हार के कारणों का पता लगाने में जुटी है. लोकसभा चुनाव में हार के बाद से ही राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पड़ अड़े थे और उन्होनें बिते दिन याणि बुधवार को पार्टी अध्यक्ष को पद से इस्तीफा दे दिया. इससे पहले कांग्रेस पार्टी के तमाम बड़े नेताओं से लेकर पार्टी के कार्यकर्ताओं ने राहुल से पार्टी का अध्यक्ष पद न छोड़ने की अपील की लेकिन राहुल अपने फैसले पर कायम रहे और बुधवार को उन्होनें आखिरकार अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

कांग्रेस पार्टी के पद से इस्तीफा देने के बाद अब राहुल गांधी ने अपने ट्विटर हेंडल से पार्टी अध्यक्ष पद हटाकर पार्टी सदस्य कर दिया है. अब सवाल यहां ये कि अब कांग्रेस पार्टी के नए अध्यक्ष कौन हो सकते है और अब पार्टी की कमान किसके हाथों में होगी और साथ ही जिस प्रकार की असफलता कांग्रेस पार्टी को लोकसभा चुनावों में मिली है उससे पार्टी को अब किस प्रकार उबर पाएगी. ये कुछ अहम सवाल है. वैसे कांग्रेस पार्टी के अधय्क्ष पद के लिए कुछ नामों की चर्ची कुछ दिनों से जोरों पर है पर अभी कुछ कहना मुश्किल है. rahul gandhi congress president

कांग्रेस में जारी परंपरा के अनुसार कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में एक अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया जाएगा तो वहीं नए अध्यक्ष की नियुक्ति के लिए कांग्रेस की देश भर की इकाइयां वोट करेंगी. अब सवाल यहां ये कि जो नए अध्यक्ष कांग्रेस के होंगे क्या वे स्वतंत्र रूप से फैसले ले पाएंगे या फिर जिस तरह कहा जाता है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पीएम होने के बाद भी स्वतंत्र रूप से फैसले नहीं ले पाते थे और उन्हें पार्टी हाईकमान के इशारों पर काम करना पड़ता था.

बिहार सरकार देगी 40 हजार शिक्षकों को नौकरी

कांग्रेस पार्टी का इतिहास रहा है कि जब-जब कांग्रेस पार्टी मुसीबत में रही है तो ही पार्टी ने गांधी- नेहरू परिवार से अलग अध्यक्ष के रूप में नए चेहरों को अध्यक्ष पद की कमान सौंपी है. ऐसे में जिस प्रकार वर्तमान में कांग्रेस के कुछ नेता जैसे मल्लिका अर्जुन खड़गे से लेकर सुशील कुमार शिंदे आदि नामों की कांग्रेस के नए अध्यक्ष के रूप में चुने जाने की चर्चा है तो वहीं राजनीत के जानकार ये मानते हैं कि अगर इनमें से अगर कोई नेता कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष चुना जाता है तो फिर स्थिती जस की तस रहेगी और हो सकता है कि ये नेता पार्टी के हाईकमान नेताओं के अनुरूप काम करे. rahul gandhi congress president

लेकिन अगर वाकई में कांग्रेस पार्टी अब नए तरीके से चुनावी मैदान में उतरना चाहती है और अपनी स्थिती मजबूत करना चाहती है तो उसे जमीन से जु़ड़े किसी पार्टी के सदस्य को पार्टी के अध्यक्ष पद पर बैठाना होगा. तभी बदलाव आ सकता है और पार्टी कमबैक कर सकती है. वहीं भाजपा ने राहुल गांधी के कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद इस पर तंज कसते हुए कहा  इस पूरे प्रकरण को ग्रेंड ओल्ड पार्टी का ब्रेंड न्यू ड्रामा करार दिया है. rahul gandhi congress president

इतना फायदेमंद है फिर भी आप इसे क्यों नहीं खाते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *