सीबीआई विवाद: SC का फैसला, 10 दिन में जांच रिपोर्ट सौंपे सीवीसी

सीबीआई में जारी घमासान के बीच केंद्र द्वारा छुट्टी पर भेजे जाने के सरकार के फैसले के खिलाफ पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर फैसला सुनाते हुए सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई ने अपना फैसला सुनाते हुए सीवीसी को 10 दिन के भीतर इस मामले करने का निर्देश दिया है. साथ ही न्यायालय ने केंद्र को नोटिस भेजकर आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने का कारण और आधार पूछा है. सर्वोच्च न्यायालय ने कहा है वह खुद इस मामले की निगरानी करेगा. मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई ने इस मामले की जांच से जुड़ी रिपोर्ट सीलबंद लिफ़ाफ़े के साथ कोर्ट में सौपने का निर्देश दिया है.

अब इस मामले की अगली सुनवाई सुप्रीम कोर्ट 12 नवंबर को करेगा. वही सीबीआई के अंतरिम डायरेक्टर नियुक्त किये गये एम् नागेश्वर राव को लेकर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा है कि वह कोई भी नीतिगत फैसला नहीं ले सकेगे. वह सीबीआई में रुटीन कामकाज ही देख सकेंगे. इसके साथ ही कोर्ट ने राव के नये सीबीआई चीफ बनने के बाद लिए गये फैसले को लेकर जानकारी मांगी है.

गौरतलब है कि इससे पहले सीबीआई में मचे घमासान के बीच सरकार ने राकेश अस्थाना और आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया था और उनकी जगह सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक नियुक्त किया था.