दिल्ली में शीला के भरोसे कांग्रेस

नई दिल्ली

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के हाथ में फिर से प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष बन गई हैं। अजय माकन के इस्तीफे के बाद से ही इस बात की उम्मीद की जा रही थी कि अनुभवी दीक्षित को ही पार्टी की कमान सौंपी जाएगी। कांग्रेस नेता पीसी चाको ने शीला दीक्षित को दिल्ली कांग्रेस का चीफ बनाए जाने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि हारून यूसुफ, राजेश लिलोठिया, देवेंद्र यादव को वर्किंग प्रेजिडेंट बनाया गया है. shila becomes delhi congress chairman

बुरे फंसे राहुल, महिला आयोग ने भेजा नोटिस

ऐसा कहा जा रहा है कि अजय माकन ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन की संभावना को देखते हुए इस्तीफा दिया। मध्य प्रदेश और राजस्थान में अनुभवी पुराने कांग्रेसियों को कमान देने की तर्ज पर ही राहुल गांधी ने दिल्ली की कमान शीला दीक्षित को सौंपी है। अजय माकन ने शीला दीक्षित को फिर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर बधाई और शुभकामनाएं दीं.shila becomes delhi congress chairman

झरते बालों को फिर से उगाना है तो इसे खाएं या लगाएं

गौरतलब है कि बीस वर्ष बाद फिर से शीला दीक्षित को दिल्ली का चीफ बनेंगी। शीला का कद और अनुभव दिल्ली के सभी नेताओँ पर भारी पड़ा। जिस प्रकार से राजस्थान और मध्यप्रदेश में अनुभवी और पुराने वफादरों को कमान सौंपी गई है उसी तर्ज पर दिल्ली को दिया गया है। शीला दीक्षित ने 15 वर्षों के कार्यकाल में बेहतर प्रदर्शन किया था और कई विकास के कार्य किए हैं जिसकी मिसाल दी जाती है. अब जैसा कि एक फिर दिल्ली की कमान कांग्रेस ने शीला दीक्षित को सौपी है तो आने वाले दिनों में ये देखना होगा कि क्या शीला दीक्षित आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की नैया  को पार लगा पाती है या नहीं. गौरतलब है की  2014 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सात लोकसभा सीटों में कांग्रेस एक भी सीट नहीं जीत पाई थी.

 

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.