“ट्रू कालर्स” का डाटा लीक, 1.5 लाख में बेचा जा रहा

यूनिफाइड पेंमेंट इंटरफेस यानि कि यूपीआई से मोबाइल के जरिए होने वाले आनलाइन ट्रांजैक्शंस पर नजर रखने वाले एक सायबर सिक्योरिटी एनालिस्ट ने खुलासा किया है कि फोन पर कालर की पहचान करने वाले मोबाइल एप ट्रू कालर के दुनिया भर के यूजर्स का डेटा डार्व बेव स्पेस पर बने एक प्लेटफार्म 1.5 लाख रुपए में बिकने के लिए उपलब्ध है. truecaller scam

हनी सिंह ने रीमेक गानों पर अपनी प्रतिक्रिया की साझा

हालांकि स्वीडिश कंपनी ट्रू कालर ने इस बात को स्वीकर किया है कि उसके यूजर्स की जानकारियों का कुछ लोग गलत इस्तेमाल कर रहें हैं लेकिन उसने यह भी दावा किया है कि उसके यूजर्स के डेटा में किसी भी प्रकार की सेंध नहीं लगी है. बता दें  ट्रू कालर के दुनियाभर में 14 करोड़ यूजर्स हैं जिनमें से लगभग 60 फीसदी लोग भारतीय हैं . बता दें कि ट्रू कालर के वैश्विक यूजर्स के डाटा की कीमत करीब 25,000 यूरो हैं. truecaller scam

तेज धुप में चेहरे, स्किन को गोरा बनायें | How to remove sun tan

इसके बारें में अधिक जानकारी देते हुए सायबर सिक्यॉरिटी ऐंड प्रिवेसी फाउंडेशन के जे. प्रसन्ना कहते हैं कि डार्क वेबसाइट्स पर उपलब्ध डेटा के नमूनों को देखने पर पता चलता है कि यह कोई साधारण डाटा नहीं है इसमें कई बड़े वित्तीय संस्थानों की जानकारियां साझा की गई हैं जो कि बेहद चिंताजनक है. वह यह भी कहते हैं कि इस तरह की कंपनियों को यूजर्स के डाटा को सुरक्षित बनाए रखने के लिए ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है. truecaller scam

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *