राजस्थान चुनाव: दांव पर दिग्गजों की किस्मत

 

राजस्‍थान में विधानसभा सीटों के लिए सुबह 8 बजे से वोटिंग जारी है. राज्य में मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. सीएम वसुंधरा राजे ने जहां पार्टी की जीत के लिए पूरी ताकत झोंक दी हैं. वहीं, कांग्रेस ने ने भी सत्ता में वापसी के लिए एड़ी छोटी का जोर लगा दिया है.Voting continue rajasthan assembly polls 

बता दे कि अलवर जिले की रामगढ़ सीट से बीएसपी उम्मीदवार के निधन से वहां वोटिंग नहीं हो रही है. राजस्थान में मुख्य मुकाबला सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. इस चुनाव में जहां कई धुरंधरों का राजनीतिक कैरियर दांव पर लगा है. ख़ास बात यह है कि इस बार की राजनीतिक लडाई कई दिग्गजों की यह आखिरी लड़ाई भी साबित हो सकती है.Voting continue rajasthan assembly polls 

राजस्‍थान के सियासी दंगल में मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया अपनी सत्‍ता बचा पाएंगी या नहीं इसका फैसला तो जनता करेगी ही इसके अलावा लोकसभा चुनाव से पहले हो रहे इस चुनाव के नतीजे लोकसभा चुनाव के लिहाज से काफी अहम है. वहीँ प्रदेश में सीएम चेहरे के तौर पर जहां भाजपा का सीएम फेस वसुंधरा राजे ही है तो दूसरी ओर कांग्रेस में अशोक गहलोत और सचिन पायलट में सीएम के पद के लिए पेंच फसेगा.

स्वप्नदोष,नाईट फॉल और दुबलेपन का इलाज 

गौरतलब है कि राजस्थान में खुद भाजपा के अन्दर ही सीएम राजे के खिलाफ विरोध हो रहा है इसके बावजूद भी राजे ही चौथी बार भी विधानसभा चुनाव में पार्टी का चेहरा है. हालांकि उन्‍हें गहलोत और पायलट की जुगलबंदी से कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है. ख़ास बात यह है कि प्रदेश एन इस बार भजपा के खिलाफ एंटी इनकंबेसी लहर है जिसका फायदा साफ़ तौर पर कांग्रेस को होने वाला है. यही वजह है कि इस बार राजस्थान में कांग्रेस की जीत की उम्मीदें भी कुछ ज्यादा है.Voting continue rajasthan assembly polls

भाजपा के खिलाफ चल रही लहर को भुनाने में लगी कांग्रेस हाल ही में संपन्न हुए उपचुनावों के परिणामों से बेहद उत्‍साहित है जबकि भाजपा इस ट्रेंड से पार पाने की पुरजोर कोशिश कर रही है. राजस्थान में वसुंधरा को जीत दिलाने के लिए भाजपा ने अपने वरिष्‍ठ नेताओं सहित पीएम मोदी और अमित शाह को चुनाव प्रचार के लिए मैदान में उतार दिया.

दोपहर की ताजा ख़बरें

ख़ास बात यह है कि राजस्थान में भाजपा को अपने ही बागी नेताओं से खासी चुनौती मिली है. राजस्थान चुनाव में भाजपा के पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिंह के बेटे मानवेन्द्र सिंह खुद झालावाड से सीएम वसुंधरा के खिलाफ कांग्रेस की सीट से चुनावी मैदान में हैं. इसके अलावा जिन नेताओं को इस बार टिकट नहीं दिया गया वो निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में हैं. इस चुनाव में कई दिग्गजों का भविष्य दांव पर है. बहरहाल कौन किस पर भारी पडेगा इस बात का पता परिणाम आने के बाद चल ही जाएगा.Voting continue rajasthan assembly polls

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.