बंगाल में भाजपा की जीत में अपने लिए मौका देख रहा लेफ्ट

लोकसभा चुनावों के दौरान इस बार पश्चिम बंगाल में भाजपा की बड़ी जीत में राज्य की राजनीति से लगभग साफ हो चुकी लेफ्ट अपने लिए वापसी के स्वर्णिम मौके तौर पर देख रही है. इस कड़ी में लेफ्ट ने बंगाल में ध्वस्त हो अपनी सियासी जमीन को फिर से मजबूत करने के लिए 2011 में बंद हो चुके अपने कार्यालयों को एक बार फिर से एक्टिव कर दिय़ा है.west bengal political party cpm

दरअसल 2011 में पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनावों में करीब 35 साल से राज्य की सत्ता पर काबिज लेफ्ट की सरकार को ममता बनर्जी की टीएमसी ने उखाड़ फेंका था. इसके बाद साल 2011 से ममता पश्चिम बंगाल की सत्ता पर काबिज हैं. 2014 में आई मोदी लहर के बावजूद सीएम ममता बनर्जी अपने गढ़ बंगाल में मोदी लहर को रोकने में कामयाब रहीं थी लेकिन इस बार 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा ने पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में 17 सीटों पर कमल को खिला दिया जिससे ममता बनर्जी की सियासी जमीन खिसकती दिखाई दे ऱही है.

एलोवेरा एनर्जी ड्रिंक बनाने का तरीका

ऐसे में राज्य में टीएमसी की सियासी जमीन को नेस्तानाबूद होता देख लेफ्ट इसे राज्य में अपना पांव जमाने के मोके के तौर पर देख रहा है. इसी के चलते उसने बंगाल में अपने कैडरों को एक्टिव करते हुए करीब 150 कार्यालयों को खोल दिया है. जिसको लेकर कथित तौर पर लेफ्ट का आरोप है कि “जब 2011 में ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की सीएम बनी थी तो  टीएमसी समर्थकों ने जबरन उसके कार्यालयों पर कब्जा कर लिया था.west bengal political party cpm

बता दें कि इसको लेकर सीपीएम के नेता दावा कर रहें हैं कि राज्य के बांकुरा, पुरुलिया,कूचबिहार, बर्द्धमान, हुगली, उत्तरी 24 परगना और हावड़ा समेत अनेक जगहों पर सीपीएम के दोबारा से अपने कार्यालयों पर फिर से कब्जा जमा लेने का दावा किया है.

एक क्लिक में पाएं सरकारी नौकरियाँ | 29th May 2019

इस मामले की पुष्टि करते हुए खुद टीएमसी के नेता शिशिर अधिकारी इस बात को स्वीकार किया है कि वाम दल ने अपने कुछ कार्यालयों पर फिर से कब्जा पा लिया है. वह इस मामले में भाजपा पर त्रिणमूल कांग्रेस की मदद का आरोप लगाते हुए यह भी कहते हैं कि भाजपा को राज्य में कुछ सीटें जीती हैं और अब हिंसा का सहारा लेकर सीपीएम की मदद कर रही है.

बहरहाल राइट विंग पार्टी लेफ्ट विंग की मदद कर रही है या नहीं लेकिन इतना जरूर हैं कि बंगाल में ममता बनर्जी की सियासी जमीन पूरी तरह से दरक गई है और अब उसकी जगह भाजपा ने अपनी जड़ें जमा लिया है. west bengal political party cpm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *