महिला के आंत व लीवर के बीच पल रहा था बच्चा, डॉ भी हुए हैरान

कभी – कभी मेडिकल साइंस में  कुछ ऐसी भी घटनाएं होती है कि विज्ञान भी चौंक जाता है.  कोलकत्ता मेडिकल अस्पताल में एक अजीब मामला सामने आया है. यहां एक महिला के गर्भ के बजाय आंत और लिवर के बीच एक बच्चा पल रहा था जिसने डाक्टरों को हैरान कर दिया. दरअसल , यह  विज्ञान के लिए यह किसी अजूबे जैसै कहानी के समान है जिसके कारण डाक्टरों ने इस बच्चे का नाम  वंडर बेबी रख दिया था.

येदि सरकार ने कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती पर लगाई रोक, हमलावर हुआ विपक्ष

दरअसल, गुरुवार को 25 वर्षीया प्रतिमा अपनी पेट दर्द की शिकायत लेकर कलकत्ता मेडिकल और अस्पताल पहुंची थी. जहां महिला की जांच में कुछ पता नहीं चला. इसके बाद महिला का अल्ट्रा सोनोग्राफी कराया गया लेकिन  उसके बाद भी कुछ  पता नहीं चल सका. इसके बाद  अंत में डॉक्टरों ने प्रेग्नेंसी टेस्ट किया जिससे  पता चला कि महिला गर्भवती है.  इस मामले में  अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि यह देखकर वह अचंभित हो गए, क्योंकि सोनोग्राफी की रिपोर्ट में कुछ नहीं निकला था. अगर वह गर्भवती है तो सोनोग्राफी में बच्चा दिखना चाहिए था.

उन्होंने कहा कि यह एक दुर्लभ घटना है. वहीं इसके बाद उन्होंने बच्चे की तलाश शुरू की गई. इसके लिए महिला का 3डी स्कैन कराया गया. जहां पता चला कि बच्चा आंत व लिवर के बीच पल रहा है. बच्चे की शारीरिक संरचना देखने से पता चला कि वह पांच महीने का है.  इस संबंध में डॉ. प्रबोध का कहना है कि, खाद्यनली के निकट होने की वजह से बच्चा उसके दीवार से पोषण प्राप्त कर रहा था, लेकिन थोड़ा बड़ा होने के बाद मां के शरीर के खून को सोखने लगा जिससे मां के शरीर में खून कम होता चला गया.

ये घरेलु उपचार दिलाएंगे डेंगू से राहत

वहीं बताया गया है कि अगर सही समय पर ऑपरेशन नहीं किया जाता तो मां की मृत्यु हो सकती थी. आपको बता दे कि शनिवार को प्रोफेसर तपन नस्कर के नेतृत्व में प्रतिमा का ऑपरेशन किया गया था. उनके साथ डॉक्टर प्रबोध, पूजा बनर्जी, चैताली सेनगुप्ता, ज्योत्सना झा, देवाशीष घोष भी मौजूद थे. डॉक्टरों ने बताया कि फिलहाल प्रतिमा खतरे से बाहर है और उनका इलाज चल रहा है. इसके साथ ही जानकारी दी गई कि कुछ दिनों में ही उन्हें डिस्चार्ज कर दिया  जाएगा.  वहीं  प्रतिमा ने बताया कि उन्हें बच्चा खोने का दुख है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *