आंगनबाड़ी केंद्रों पर मनाया गया गोदभराई उत्सव, उचित पोषण की दी गई जानकारी 

– जिले के सभी प्रखंडों में मनायी गयी गोदभराई, स्वस्थ समाज निर्माण को लेकर किया गया जागरूक 
– सुरक्षित और सामान्य प्रसव को बढ़ावा देने के लिए गर्भवती एवं स्वस्थ शरीर निर्माण के लिए धातृ महिला को दी गई उचित पोषण की जानकारी 

खगड़िया, 07 अप्रैल-

जिले में पूर्व से निर्धारित तिथि के अनुसार सभी प्रखंडों में आंगनबाड़ी केंद्रों पर जहाँ गुरुवार को गोदभराई उत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। वहीं, जिले के विभिन्न प्रखंडों में विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन कर स्वस्थ समाज निर्माण के लिए लोगों को जागरूक किया गया। गोदभराई उत्सव के दौरान लाभार्थियों को पोषण से संबंधित विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई। मंगल गीतों से कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया और गर्भवती महिला को उपहार स्वरूप पोषण की पोटली दी गई है। जिसमें गुड़, चना, हरी पत्तेदार सब्जियां, आयरन की गोली व फल आदि शामिल थे। पोटली में  सतरंगी व अनेक प्रकार के पौष्टिक भोज्य पदार्थ शामिल थे। गर्भवती महिलाओं को चुनरी ओढ़ा और टीका लगाकर गोदभराई रस्म पूरी की गई। वहीं, सभी महिलाओं को अच्छी सेहत के लिए पोषण की आवश्यकता व महत्व के बारे में जानकारी दी गई।

– सुरक्षित और सामान्य प्रसव के लिए उचित पोषण बेहद जरूरी :
आईसीडीएस की जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सुनीता कुमारी ने बताया, गोदभराई रस्म में सेविकाओं द्वारा गर्भवती महिलाओं के सम्मान में उसे चुनरी ओढ़ा और तिलक लगा कर उनके गर्भस्थ शिशु की बेहतर स्वास्थ्य की कामना की गई। साथ ही गर्भवतियों को पोषण संबंधी पौष्टिक आहार फल सेव, संतरा, बेदाना, दूध, अंडा, दाल सेवन करने का तरीका बताया गया। साथ ही गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को आयरन की गोली खाने की सलाह दी गई। जिसमें बताया गया कि गर्भवती महिला कुछ सावधानी और समय से पौष्टिक आहार का सेवन करें तो बिना किसी अड़चन के स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती हैं। उन्होंने बताया, सुरक्षित और सामान्य प्रसव के लिए उचित पोषण  बेहद जरूरी है।
– जिले के सभी प्रखंडों में संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों पर मनाया गया गोदभराई उत्सव : 
आईसीडीएस के जिला समन्वयक अंबुज कुमार ने बताया, जिले के सभी प्रखंडों में गोदभराई उत्सव मनाया गया। जिसके दौरान मौजूद लाभार्थियों को बताया गया कि शिशु के जन्म के एक घंटे के भीतर मां का गाढ़ा-पीला दूध बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। अगले छह माह तक केवल माँ का दूध बच्चे को कई गंभीर रोगों से सुरक्षित रखता है। 6 माह के बाद बच्चे का शारीरिक एवं मानसिक विकास काफी तेजी से होता है। इस दौरान स्तनपान के साथ ऊपरी आहार की काफी जरूरत होती है। घर का बना मसला व गाढ़ा भोजन ऊपरी आहार की शुरुआत के लिए जरूरी होता है। सामान्य प्रसव के लिए गर्भधारण होने के साथ ही महिलाओं को चिकित्सकों से जाँच करानी चाहिए और चिकित्सा परामर्श का पालन करना चाहिए ,आदि जानकारी दी गई। 

– एनीमिया प्रबंधन की दी गई जानकारी : 
सदर सीडीपीओ विनीता कुमारी ने बताया गर्भवती माता, किशोरियां व बच्चों में एनीमिया की रोकथाम जरूरी है। गर्भवती महिला को 180 दिन तक आयरन की एक लाल गोली जरूर खानी चाहिए। 10 वर्ष से 19 साल की किशोरियों को भी प्रति सप्ताह आयरन की एक नीली गोली का सेवन करनी चाहिए। छह माह से पांच साल तक के बच्चों को सप्ताह में दो बार एक-एक मिलीलीटर आयरन सिरप देनी चाहिए। 

– स्वस्थ समाज निर्माण को लेकर भी लोगों को किया गया जागरूक : 
केयर इंडिया के डीटीएल अभिनंदन आनंद ने बताया, गोदभराई उत्सव के दौरान विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर मौजूद लोगों को स्वस्थ समाज निर्माण को लेकर भी जागरूक किया गया। इसके अलावा अन्य जगहों पर भी जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन कर लोगों को स्वस्थ रहने के लिए जागरूक किया गया और स्वास्थ्य से संबंधित आवश्यक जानकारी दी गई। जिसके दौरान खुद के साथ-साथ परिवार और समाज को स्वस्थ बनाने के लिए जरूरी सलाह दी गई एवं स्वच्छता से संबंधित आवश्यक जानकारी दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: