कायाकल्प योजना को लेकर गोपालपुर, रंगरा और इस्माइलपुर पीएससी का निरीक्षण

  साफ सफाई से संतुष्ट निरीक्षण करने वाली टीम जहां कमी दिखाई दी, वहां सुधार का दिया निर्देश

 भागलपुर-  

कायाकल्प अवार्ड को लेकर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार को गोपालपुर, रंगरा और इस्माइलपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया. इस दौरान अस्पतालों की साफ-सफाई से स्वास्थ्य विभाग की टीम संतुष्ट दिखी. जहां कमी नजर आई, वहां सुधार का निर्देश दिया गया. स्वास्थ्य विभाग की टीम में खगड़िया केयर इंडिया के डीटीएल डॉक्टर अभिनंदन, डीपीसी हेमलता जोशी, डीएएम पवन कुमार और भागलपुर केयर इंडिया से डीटीओ डॉक्टर राजेश कुमार और जिला स्वास्थ समिति के डॉ प्रशांत कुमार टीम में मौजूद थे. इस दौरान केयर इंडिया के एपिसोड जितेंद्र कुमार भी मौजूद थे. गोपालपुर के पीएचसी प्रभारी डॉ सुधांशु कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अस्पताल में साफ सफाई का जायजा लिया. टीम ऑपरेशन थिएटर और लेबर रूम भी गई. वहां पर साफ सफाई को देखा. टीम में मौजूद सभी लोग अस्पताल की साफ सफाई से संतुष्ट दिखे. उम्मीद है कि अच्छा परिणाम निकलेगा. वहीं रंगरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ रंजन कुमार ने कहा कि अस्पताल स्वास्थ्य विभाग की टीम के निरीक्षण के दौरान सभी मानकों पर खरा उतरा. टीम के सभी सदस्य यहां की व्यवस्था से संतुष्ट दिखे. उम्मीद है कि इसका बेहतर परिणाम आएगा. इस्माइलपुर के डॉक्टर राकेश रंजन ने कहा कि सभी लोग अस्पताल में साफ सफाई से संतुष्ट थे. अस्पताल में कहीं कोई कमी नहीं थी. हमें उम्मीद है कि इस बार हम लोग कायाकल्प को लेकर बढ़िया प्रदर्शन करेंगे. वही निरीक्षण को आई केयर इंडिया भागलपुर के डॉक्टर राजेश कुमार ने कहा कि तीनों ही अस्पताल में साफ-सफाई की अच्छी व्यवस्था थी. ऑपरेशन थिएटर साफ था. लेबर रूम में भी ठीक-ठाक व्यवस्था थी. जहां कुछ कमियां नजर आई, उसे दुरुस्त करने का निर्देश दिया गया है. टीम आज के प्रदर्शन के आधार पर नंबर देगी. कायाकल्प मूल्यांकन कार्यक्रम आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य : देश भर में कायाकल्प मूल्यांकन  कार्यक्रम आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य देश भर के स्वास्थ्य संस्थानों में स्वच्छ्ता की व्यवस्था रखने के साथ हीं लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से प्रचार- प्रसार की व्यवस्था करना है. इसके साथ हीं संक्रमण की  रोकथाम की व्यवस्था,बायो मेडिकल कचरे का प्रबंधन करने के साथ हीं संक्रमण से रोकथाम के लिए सभी आवश्यक कार्य करना है. कायाकल्प मूल्यांकन कार्यक्रम सदर अस्पताल  स्तर  पर 2015 में, पीएचसी स्तर  पर 2016 और सभी शहरी स्वास्थ्य केंद्रों तक 2017 तक शुरू किया गया. वर्ष  2015 के मई में तत्कालीन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रकाश नड्डा ने देशस्तर पर कायाकल्प अवार्ड स्कीम की शुरुआत की थी 

Leave a Reply

Your email address will not be published.