कोरोना के मामले कम जरूर हो रहे पर सावधानी अभी भी जरूरी

-जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार आ रही कमी
-कोरोना के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग का अभियान है जारी
बांका, 2 फरवरी
जिले में अब कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आने लगी है। स्वास्थ्य विभाग के बेहतर प्रबंधन और आमलोगों में जागरूकता की वजह से कोरोना के केस कम हो रहे हैं। तीसरी लहर के दौरान जांच और टीकाकरण अभियान तेज गति से चलने के कारण भी ऐसा हो रहा है, लेकिन कोरोना पूरी तरह से खत्म हो गया ऐसा भी नहीं है। इसलिए अभी भी लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। जब तक कोरोना पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है, तब तक कोरोना की गाइडलाइन का पालन करना चाहिए।
शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. सुनील कुमार चौधरी का कहना है कि कोरोना अभी पूरी तरह से गया नहीं है। हां, कोरोना के मामले जरूर कम होने लगे हैं। ऐसा इसलिए हो सका, क्योंकि लोगों ने समझदारी दिखाई। कोरोना की गाइडलाइन का पालन किया। अभी इसे जारी रखने की जरूरत है। घर से बाहर जाते वक्त मास्क जरूर लगाएं और सामाजिक दूरी का पालन करते हुए भीड़भाड़ से बचें। एक-दूसरे के बीच दो गज की दूरी का पालन करें। बाहर से घर आने पर 20 सेकेंड तक हाथ की धुलाई अवश्य करें। ऐसा करते रहने से कोरोना की चपेट में आने से बचे रहेंगे और आपके संपर्क वाले लोग भी इसकी चपेट में नहीं आएंगे।
जल्द से जल्द ले लें कोरोना का टीकाः डॉ. चौधरी कहते हैं कि कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा हथियार सावधानी और टीका है। इसलिए कोरोना गाइडलाइन के पालन के साथ जल्द से जल्द टीका जरूर ले लें। हालांकि जिले के काफी लोगों ने टीका ले लिया है, लेकिन फिर भी जो लोग भी बचे हुए हैं वह जल्द से जल्द टीका ले लें। जिले में टीकाकरण अभियान लगातार जारी है। सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ कई जगहों पर लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। इसके अलावा गांधी चौक पर सुबह से लेकर शाम तक टीकाकरण हो रहा है। अपनी सुविधानुसार वहां पर जाकर टीका लें। जिनका समय पूरा हो गया हो, वह दूसरा टीका लें। साथ ही जो तीसरे टीके के दायरे में आते हैं, वह तीसरा टीका भी ले लें। साथ ही अभी तक जिसने एक भी टीका नहीं लिया है, वे तत्काल कोरोना का पहला टीका ले लें।
परेशानी होने पर डॉक्टर से दिखाएः अभी सर्दी का मौसम चल रहा है। इस मौसम में सर्दी-खांसी की समस्या आम बात है, लेकिन इसका इलाज खुद से नहीं करें। डॉक्टर को दिखाएं। डॉ. चौधरी कहते हैं कि डॉक्टर आपकी बीमारी को समझकर सही सलाह देंगे। अगर उन्हें कोरोना के लक्षण दिखाई देंगे तो वह कोरोना जांच की सलाह देंगे। अन्यथा जो दूसरी बीमारी है उसका इलाज करेंगे। खुद से इलाज करना या फिर दवा दुकानदार की सलाह पर दवा खाना सही नहीं रहता है। इसके साथ-साथ अभी ठंड को लेकर भी पूरी तरह से सतर्क रहने की जरूरत है। सुबह और शाम घर से बाहर निकलने से पहले पूरी तरह से गर्म कपड़े जरूर पहन लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: