खगड़िया जिले में 24 घंटे मिल रही है एसएनसीयू की सेवा

  • 16 नवजात हैं एडमिट, दी जा रही है बेहतर स्वास्थ्य सेवा
  • नवजात को एसएनसीयू में एडमिट कराने में केयर इंडिया भी कर रहा सहयोग
  • चिकित्सक की मौजूदगी में दी जा रही है सेवा, सुरक्षा का रखा जा रहा है ख्याल

खगड़िया, 22 जनवरी|
राज्य स्वास्थ्य समिति स्वास्थ्य सेवा सुदृढ़ और बेहतर करने के लिए निरंतर प्रयासरत है। जिसका धरातल पर सकारात्मक प्रभाव दिख रहा है| सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल रही है। इसी कड़ी में नवजात को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने के लिए अस्पतालों में एसएनसीयू की सेवा बहाल की गई है । जो चिकित्सकों की मौजूदगी में प्रशिक्षित एएनएम द्वारा 24 घंटे दी जा रही है। साथ ही इस दौरान सुरक्षा के हर मानकों का ख्याल भी ख्याल रखा जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के इस पहल से नवजातों के जरूरतमंद परिजनों की परेशानियाँ कम होते दिख रही है|

  • 16 नवजात हैं एडमिट, मिल रही है समुचित स्वास्थ्य सेवा :-
    एसएनसीयू प्रभारी डॉ आमोद कुमार ने बताया कि वर्तमान में स्वास्थ्य परेशानी से पीड़ित 16 नवजात एसएनसीयू में भर्ती हैं । जिसे बेहतर सुविधा के साथ स्वास्थ्य सेवा दी जा रही है। साथ ही इलाज सुरक्षा के हर मानकों का ख्याल रखा जाता है। ताकि नवजात को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवा मिल सके और किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इसके अलावा नवजात के स्वस्थ शरीर निर्माण को लेकर इलाज के पश्चात की जाने वाली आवश्यक देखरेख की भी जानकारी परिजनों को दी जाती है| उन्हें उचित देखरेख के लिए प्रेरित भी किया जाता है ।
  • साँस से पीड़ित नवजात को दी जाती है एसएनसीयू सेवा :-
    एसएनसीयू के चिकित्सक डॉ नरेंद्र कुमार ने बताया कि साँस से पीड़ित नवजात को जिले के अस्पतालों में एसएनसीयू की सुविधा आसानी के साथ दी जा रही है| इस दौरान बच्चे की सुरक्षा के मद्देनजर स्वास्थ कर्मी पूरी सतर्कता के साथ नवजात को यह सुविधा उपलब्ध करा रहे हैं। ताकि नवजात को अन्य परेशानियाँ से नहीं जूझना पड़े।
  • नवजात को स्वस्थ रखने के लिए परिजनों को दी जाती है जानकारी :-
    एसएनसीयू के डीएमयू सुबोध कुमार ने बताया कि इलाज के पश्चात डिस्चार्ज करने के वक्त अस्पताल कर्मियों एवं चिकित्सकों द्वारा नवजात को स्वस्थ रखने के लिए परिजनों को आवश्यक चिकित्सा परामर्श दिए जाते हैं। ताकि नवजात का स्वस्थ शरीर निर्माण हो। इस दौरान बच्चे को जन्म के बाद छः माह तक नियमित रूप से स्तनपान कराने, साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखने, कोविड-19 के लेकर नवजात को स्तनपान कराने के दौरान मास्क का अनिवार्य रूप उपयोग करने व हाथों की अच्छी तरह से साबुन से धोने आदि की जानकारी दी जाती है।
  • एसएनसीयू सुविधा उपलब्ध कराने के दौरान साफ-सफाई का रखा जा रहा है ख्याल : –
    नवजात को एसएनसीयू की सेवा उपलब्ध कराने के दौरान साफ-सफाई का पूरी तरह ख्याल रखा जाता है। इसके लिए चिकित्सक, कर्मी समेत अन्य लोग एसएनसीयू प्रवेश करने के पूर्व ही चप्पल-जूता तक प्रवेश द्वार पर ही खोल लेते हैं। ताकि अंदर परिवार में किसी प्रकार गंदगी से संक्रमण नहीं हो और शत-प्रतिशत साफ सफाई सुनिश्चित हो। इसके अलावे नवजात के परिजनों को भी साफ-सफाई से संबंधित आवश्यक जानकारी देते हुए पालन के लिए जागरूक किया जाता है। साथ ही साथ सरकार के गाइलाइन का भी पालन किया जाता है।
  • नवजात को एसएनसीयू में एडमिट कराने में केयर इंडिया भी कर रहा है सहयोग :-
    नवजात को एसएनसीयू में एडमिट कराने में केयर इंडिया के कर्मियों का भी सकारात्मक सहयोग दिख रहा है। केयर इंडिया के कर्मी पीड़ित नवजात के परिजन को सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में उपलब्ध एसएनसीयू सेवा की जानकारी देकर लोगों के मन में चल रहे सरकार स्वास्थ्य संस्थानों के प्रति दुविधा को दूर कर रहे हैं। साथ ही उपलब्ध सुविधा की भी जानकारी देते हैं और एडमिट कराने तक आवश्यक सहयोग कर रहे हैं। जिसका अच्छा प्रभाव दिख रहा है और लोग पूरी उत्साह के साथ निर्भीक होकर सरकारी स्वास्थ्य सेवा का लाभ ले रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *