गर्भवती महिलाओं के लिए कोरोना टीकाकरण सुरक्षित :आईसीएमआर

  • गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण को ले गठित राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह ने भी दिए कई आवश्यक दिशा- निर्देश
  • राज्य स्वास्थ्य समिति ने भी दिया है 18 साल से अधिक उम्र की सभी गर्भवती महिलाओं को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश

मुंगेर, 20 जुलाई –

गर्भवती महिलाओं के लिए टीकाकरण मामले को ले इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना टीकाकरण से गर्भवती महिलाओं को हानि की जगह लाभ ज्यादा है। इसलिए प्राथमिकता के आधार पर 18 वर्ष से अधिक उम्र की सभी गर्भवती महिलाओं को कोरोना का टीका लगाना चाहिए। इससे पूर्व गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण को ले गठित राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह ने भी आवश्यक दिशा- निर्देश जारी किए थे। इसी के मद्देनजर राज्य स्वास्थ्य समिति, पटना ने भी 18 साल से अधिक की सभी गर्भवती महिलाओं को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश जारी किया है ताकि कोरोना संक्रमण की संभावनाओं से माता और बच्चे को बचाया जा सके।

मुंगेर में कार्यरत केयर इंडिया की डीटीओएफ डॉ. नीलू ने बताया कि कोरोना टीकाकरण किसी भी मां और उसके गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने भी आईसीएमआर के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी है। इसके बाद अब कोई भी गर्भवती महिला को-विन एप पर ऑनलाइन या ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद नजदीकी सेशन साइट पर जाकर कोरोना की वैक्सीन ले सकती हैं।

उन्होंने बताया कि वैसी गर्भवती महिलाएं जिनकी उम्र 35 साल से अधिक है और जिनका वजन अधिक है के साथ-साथ जिन्हें डायबिटीज या हाई ब्लडप्रेशर की समस्या है। उन्हें कोरोना संक्रमण की संभावना अधिक है। इसलिए अवश्य ही कोरोना की वैक्सीन ले लेनी चाहिए। इसके साथ ही यदि कोई महिला गर्भावस्था के दौरान संक्रमण की चपेट में आकर उससे ऊबर चुकी हैं तो वह
वैक्सीन के लिए थोड़ा इंतज़ार कर सकती हैं। लेकिन प्रसव के बाद उन्हें भी अवश्य कोरोना का टीका लगवा लेना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं को कोरोना टीकाकरण के लिए किया जाएगा जागरूक :
उन्होंने बताया कि कोरोना टीकाकरण के लिए गर्भवती महिलाओं को केयर इंडिया की प्रखण्ड स्तर पर काम कर रही टीम, आशा कार्यकर्ता, आशा फैसिलिटेटर और एएनएम के द्वारा जागरूक किया जाएगा। इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं के शत-प्रतिशत टीकाकरण को ले शुरू होने वाले अभियान से पूर्व एंटी नेंटल केयर कार्य से संबंधी सभी कार्यक्रम प्रबंधन के बारे में स्वास्थ्य कर्मी और सेवा प्रदाताओं के लिए उन्मुखीकरण कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है। विगत 12 जुलाई को ही इससे संबंधित एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसमें सरकारी संस्थानों के साथ- साथ निजी चिकित्सा संस्थानों के कर्मियों की भागीदारी सुनिश्चित करवाई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *