चुनौतियों के बीच टीकाकरण महाअभियान में  लगातार अपनी सेवा दे रही एएनएम मधु कुमारी

  – जिले में वैक्सीनेशन अभियान के शुभारंभ से ही लगातार सेवा में हैं तत्पर- सदर अस्पताल  टीकाकरण स्थल पर अब तक 10 हजार से अधिक लोगों को लगा चुकी हैं वैक्सीन  

 मुंगेर, 10 जनवरी- जिला में कोविड के नये वैरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को हर हाल में रोकने के लिए जिलाभर में सोमवार से हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर के साथ-साथ 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए  प्रीकॉशन बूस्टर डोज़ देने की शुरुआत हुई। इससे पूर्व 3 जनवरी से 15 से 18 आयुवर्ग के किशोरों के टीकाकरण का महाअभियान भी शुरू हो चुका है। जिला में जल्द से जल्द शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन सुनिश्चित कराने के लिए स्वास्थ्य कर्मी तमाम तरह की चुनौतियों के बीच  अपने कर्तव्य पथ पर अग्रसर हैं। ताकि एक भी व्यक्ति वैक्सीन से वंचित नहीं रहे। जिससे इस महामारी को जड़ से मिटाया जा सके। ऐसे ही कर्मियों में से एक हैं सदर अस्पताल में वैक्सीनेटर के रूप में कार्यरत एएनएम मधु कुमारी। वो विगत 16 जनवरी 2021 से  जिला में  वैक्सीनेशन महाभियान के शुभारंभ से वैक्सीनेशन कार्य में जुटी हुई हैं।  वह अपने कर्तव्य पथ पर खुद संक्रमित होने की आशंकाओं के बीच कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन करते हुए लोगों को लगातार बेहतर स्वास्थ्य सेवा दे रही हैं।  वह वैक्सीनेशन के लिए आने वाले लोगों को हमेशा कोरोना गाइडलाइन के रूप में नियमित मास्क का प्रयोग करने और एक- दूसरे से शारीरिक दूरी रखने के लिए प्रेरित भी करती हैं। इसके साथ- साथ वो लोगों को एक निश्चित अंतराल पर हाथों की साफ- सफाई करने और अभी तक वैक्सीन नहीं लेने वाले लोगों को वैक्सीन लेने के लिए प्रेरित भी कर रही हैं। ताकि लोग अफवाहों से बाहर आकर वैक्सीन लें और शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन सुनिश्चित हो सके।  – मुश्किल वक्त में सकारात्मक परिणाम की उम्मीद के साथ कर्तव्य पथ पर डटी रहीं : एएनएम मधु कुमारी ने बताया कि पिछले वर्ष 16 जनवरी से जिला में टीकाकरण महाअभियान की शुरुआत हुई थी । उस वक्त परिस्थितियां जरूर मुश्किल थी पर मेरी जिम्मेदारी बड़ी थी। इसलिए, सकारात्मक परिणाम की उम्मीद के साथ अपने कर्तव्य पथ पर डटी रही । इस दौरान तमाम चुनौतियों का सामना करना पड़ा। उस समय जिला में वैक्सीनेशन अभियान के साथ अफवाहों का भी दौर शुरू हो गया था। जो ना सिर्फ मेरे लिए बल्कि पूरे सिस्टम के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों के रूप उभरकर सामने आया था। इसकी वजह से वैक्सीनेशन के लिए लोग अपने-अपने घरों से बाहर नहीं निकल रहे थे। लोगों में वैक्सीनेशन के सकारात्मक पहलुओं के प्रति जागरूकता की काफी कमी थी। बहुत सारे हेल्थलाइन वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर भी वैक्सीन लेने से संकोच कर रहे थे। बावजूद इसके वैक्सीनेशन महाअभियान में जुटे मेरे जैसे कई स्वास्थ्यकर्मी ने इस चुनौती को भी एक अवसर समझकर अपने कर्तव्य पथ पर डटे रहे। इसका परिणाम यह हुआ कि लोगों में वैक्सीन के प्रति विश्वास बढ़ा और अब लोग खुद वैक्सीन लेने के लिए आगे आने लगे हैं। इससे ना सिर्फ वैक्सीनेशन अभियान को गति मिली, बल्कि लोगों के सकारात्मक सहयोग से अफवाहों को भी मात मिली है। – दस हजार से अधिक लोगों का कर चुकी हैं वैक्सीनेशन :  मुंगेर के जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. राजेश कुमार रौशन ने बताया कि मधु कुमारी सदर अस्पताल मुंगेर स्थित वैक्सीनेशन सेंटर में वैक्सीनेटर के रूप में काम कर रही हैं। वो हमेशा अपने कार्य के प्रति मुस्तैद और सजग रहती हैं। वह तमाम चुनौतियों के बावजूद कभी अपने कर्तव्य पथ पर नहीं थकी और पूरी मुस्तैदी के साथ डटी रहीं। जिसका सकारात्मक परिणाम यह रहा कि मधु कुमारी की इस पहल का लोगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा और अफवाहों को मात मिली। वो अब तक 10 हजार से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कर चुकी हैं।  एक भी लोग वैक्सीन लेने से वंचित नहीं रहें इसके लिए वो हमेशा तत्पर रहती हैं । – इन मानकों का करें पालन और कोविड-19 संक्रमण से रहें दूर : – मास्क का उपयोग और शारीरिक दूरी का पालन जारी रखें।- विटामिन-सी युक्त पदार्थों का अधिक सेवन।- साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें और सैनिटाइजर का उपयोग करें।- बारी आने पर निश्चित रूप से वैक्सीनेशन कराएं और दूसरों को भी प्रेरित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: