जगदीशपुर और पीरपैंती में खुलेगी ब्लड स्टोरेज यूनिट

-गर्भवती महिलाओं को नहीं होने दी जाएगी खून की कमी
-ब्लड स्टोरेज यूनिट खोलने में केयर इंडिया कर रहा है सहयोग

भागलपुर-

जिले के पीरपैंती और जगदीशपुर में ब्लड स्टोरेज यूनिट खुलने जा रही है. इन दो प्रखंडों में ब्लड स्टोरेज यूनिट खुल जाने से गर्भवती महिलाओं को काफी राहत मिलेगी. उन्हें जरूरत पड़ने पर खून की कमी नहीं होने दी जाएगी. अभी जरूरत पड़ने पर उन्हें मायागंज अस्पताल आना पड़ता है, लेकिन वहां पर ब्लड स्टोरेज खुलने से आसानी से खून उपलब्ध हो जाएगा. दोनों ही प्रखंड में ब्लड स्टोरेज यूनिट चालू करवाने में केयर इंडिया भी सहयोग कर रही है.
ब्लड स्टोरेज यूनिट खोलने को लेकर कवायद चल रही-
सिविल सर्जन डॉक्टर विजय कुमार सिंह ने बताया कि ब्लड स्टोरेज यूनिट खोलने को लेकर कवायद चल रही है. फरवरी के पहले सप्ताह तक इसके चालू हो जाने की उम्मीद है. ब्लड स्टोरेज यूनिट चालू हो जाने से जगदीशपुर और पीरपैंती प्रखंड के लोगों को काफी राहत मिलेगी. विशेषकर गर्भवती महिलाओं को. गर्भवती महिलाओं के अलावा अन्य मरीज जिनका ऑपरेशन होता है और उन्हें खून की जरूरत होती है, उन्हें भी फायदा होगा.

500 से अधिक गर्भवती महिलाएं हर महीने आती हैं प्रसव कराने के लिए: केयर इंडिया के एफपीसी आलोक कुमार का कहना है कि जगदीशपुर और पीरपैंती प्रखंड क्षेत्र में हर महीने 500 से अधिक गर्भवती महिलाएं प्रसव के लिए अस्पताल आती हैं. इनमें से दर्जनों गर्भवती महिलाओं को ब्लड की जरूरत पड़ती है, लेकिन अभी ब्लड स्टोरेज यूनिट नहीं है तो उन्हें मायागंज रेफर करना पड़ता है.जब ब्लड स्टोरेज यूनिट चालू हो जाएगी तो ऐसी नौबत नहीं आएगी.

मातृ मृत्यु दर में आएगी कमी: आलोक कुमार ने बताया कि ब्लड स्टोरेज यूनिट खुल जाने से मातृत्व मृत्यु दर में भी कमी आएगी. उन्होंने कहा कि प्रसव के बाद अगर पीपीएच की समस्या हो जाती है तो 2 घंटे के अंदर गर्भवती महिलाओं को खून की जरूरत पड़ती है. पीरपैंती से भागलपुर आने में अगर जाम मिल गया तो देरी हो जाती है. इन सब झंझट से आमलोगों को मुक्ति मिलेगी. जब वहां पर ब्लड स्टोरेज यूनिट रहने से तत्काल खून उपलब्ध करवाकर पीड़ित महिलाओं को दे दिया जाएगा. इससे उनकी जान बच जाएगी.

दियारा क्षेत्र के लोगों को विशेष फायदा: आलोक कुमार कहते हैं कि पीरपैंती प्रखंड में दियारा वाला इलाका अधिक है, जबकि जगदीशपुर में नदियों की संख्या अधिक है. इस वजह से दोनों ही प्रखंडों में आवागमन की सुविधा में लोगों को समस्या होती है. आने जाने में समय लगता है. ब्लड स्टोरेज यूनिट खुल जाने से अब लोगों को ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा. इसलिए इन दो प्रखंड के लोगों को इस मायने में बहुत फायदा होगा. उन्हें ब्लड के लिए ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा. इससे समय की बचत होगी और मरीजों की जान बचेगी.

कोविड 19 के दौर में रखें इसका भी ख्याल:
• व्यक्तिगत स्वच्छता और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखें.
• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
• साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
• छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढकें ढंके.
• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
• घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
• बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें.
• आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
• मास्क को बार-बार छूने से बचें एवं मास्क को मुँह से हटाकर चेहरे के ऊपर-नीचे न करें
• किसी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात-चीत करने के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि दोनों मास्क पहने हों
• कहीं नयी जगह जाने पर सतहों या किसी चीज को छूने से परहेज करें
• बाहर से घर लौटने पर हाथों के साथ शरीर के खुले अंगों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.