टीका एक्सप्रेस पहुंची ककवारा
पंचायत, लाभुकों को लगाए गए टीके

टीकाकरण के साथ लोगों को जागरूक भी किया गया

स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ अधिकारी भी थे शामिल

बांका, 31 मई

कोरोना उन्मूलन को लेकर जिले में स्वास्थ्य विभाग की गतिविधियां काफी तेज गति से चल रही हैं। इसी सिलसिले में सोमवार को शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की टीका एक्सप्रेस ककवारा पंचायत पहुंची। वहां पर कोरोना का टीका लगाया गया। इसके साथ पंचायत में जाकर लोगों को टीका लेने के लिए जागरूक भी किया गया। इस दौरान शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. सुनील कुमार चौधरी के साथ प्रखंड विकास पदाधिकारी अजय कुमार और अंचल अधिकारी सुजीत कुमार भी मौजूद थे। टीका एक्सप्रेस के तहत ककवारा पंचायत में 17 लाभुकों को कोरोना के टीके दिए गए। वहीं शहरी पीएचसी में 18 साल से अधिक उम्र के 70 और 45 साल से अधिक उम्र के 10 लोगों को कोरोना के टीके दिए गए।

डॉ. चौधरी ने बताया कि टीका एक्सप्रेस फर्राटे के साथ दौड़ रही है। हर दिन किसी न किसी पंचायत में टीका एक्सप्रेस पहुंचती है और वहां के लोगों का टीकाकरण करती है। टीका एक्सप्रेस के साथ हमलोग भी जाते हैं, पंचायत के लोगों को जागरूक करने के लिए। साथ में प्रखंड विकास पदाधिकारी अजय कुमार और अंचल अधिकारी सुजीत कमार भी रहते हैं। इसी क्रम में हमलोग ककवारा पंचायत गए। वहां के लोगों से टीका लेने की अपील की। लोगों को समझाया कि टीका लेने का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। टीका लेने से कोरोना होने का खतरा नहीं के बराबर होता है। इसलिए टीका अवश्य लें।

जीविका की टीम ने भी दिया साथः डॉ. चौधरी ने बताया कि ककवारा में लोगों को जागरूक करने में जीविका की टीम भी साथ थी। जीविका के मैनेजर हमलोगों के साथ लोगों को टीका लेने के लिए जागरूक कर रहे थे। दरअसल, जीविका दीदियां गांव-गांव जाकर काम करती हैं। स्थानीय लोगों से उनका बेहतर संपर्क रहता है। इस वजह से उनलोगों की बातों को ग्रामीण बेहतर तरीके से समझते हैं। इसलिए हमलोग तो लोगों को जागरूक कर ही रहे हैं, जीविका की टीम के शामिल होने से टीकाकरण अभियान को और गति मिलेगी।

मजलिसपुर में लोगों की हुई कोरोना जांचः उधर, सदर प्रखंड के मजलिसपुर में शिविर लगाकर एंटीजन किट से 67 लोगों की कोरोना जांच की गई। डॉ. चौधरी ने बताया कि टीकाकरण के साथ-साथ जांच भी जरूरी है। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए हर मोर्चे पर हमलोग काम कर रहे हैं। जांच होने से मरीजों की पुष्टि हो जाती है, जिसके बाद वह होम आइसोलेशन में चला जाता है। इस वजह से कोरोना के संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है। यही वजह है कि टीकाकरण के साथ-साथ हमलोग जांच का काम भी उतनी ही तेजी से कर रहे हैं।

कोरोना की गाइडलाइन का पालन जरूरीः डॉ. चौधरी ने बताया कि जांच और टीकाकरण के साथ-साथ कोरोना की गाइडलाइन का पालन भी जरूरी है। जिन लोगों ने टीका नहीं लिया है, उन्हें तो करना ही करना है। साथ ही जिन लोगों ने टीका ले लिया है, उन्हें भी कोरोना की गाइडलाइन का पालन करना है। घर से बाहर जाते वक्त मास्क लगाएं औऱ भीड़भाड़ से बचें। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए दो गज की दूरी बनाएं रखें। घर में भी बात करते वक्त सामाजिक दूरी का पालन करें और मास्क लगाएं। ऐसा करते रहने से कोरोना के संक्रमण से बचे रहेंगे। साथ ही दूसरे लोग भी संक्रमित नहीं होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.