बदल रहे मौसम में डायरिया से रहें सावधान,प्रदूषित भोजन व संक्रमित जल से बचें

-बच्चों को डायरिया से बचाने पर दें ध्यान
-पेट मरोड़ व दर्द के साथ दस्त व उल्टी है डायरिया की पहचान

लखीसराय, 17अगस्त| इस समय मौसम में तेजी से बदलाव हो रहा है| कोरोना संक्रमण के साथ अन्य बीमारियों की संभावना समान रूप से हैं| इनमें डायरिया एक गंभीर बीमारी है| छोटी सी लापरवाही डायरिया की समस्या को गंभीर बना देती है| कोरोना संक्रमण को लेकर जब लोग घरों में ही हैं | ऐसे में जरूरी है कि आवश्यक सावधानी बरती जाये और दवाइयों का प्रबंधन घर पर कर लिया जाये| ताकि अनावश्यक रूप से परेशान होने से बचा जा सके| डायरिया के मामले अधिकांशत: गर्मियों में बढ़ जाते हैं| यह किसी भी आयुवर्ग व्यक्ति को हो सकता है| थोड़ी भी लापरवाही बरतने पर यह समस्या विशेष तौर पर शारीरिक रूप से कमजोर लोगों जैसे बुजुर्ग व बच्चों में अधिक गंभीर हो जाती है|

डायरिया होने का कारण
बैक्ट्रीरिया और वायरस से होने वाला संक्रमण है| प्रदूषित खानपान, बासी भोजन, साबुन से हाथ नहीं धोना, साफ पेयजल का इस्तेमाल नहीं करना आदि डायरिया की वजह हैं| डायरिया होने पर पेट मरोड़ व दर्द के साथ दस्त व उल्टी होती है| कभी कभी मल में खून या म्यूकस भी आने की शिकायत हो सकती है| डायरिया पीड़ित को इस दौरान तेज बुखार, सिरदर्द और हाथ व पेरों में दर्द होता है| दस्त के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसलिए मरीज को तरल पदार्थ जरूर दिया जाना चाहिए|

शरीर में पानी की कमी के लक्षणों की ऐसे करें पहचान:
• गला सूखना व मुंह में सूखापन.
• कमजोरी और सुस्ती का एहसास.
• गाढ़े रंग का पेशाब होना.
• बहुत कम पेशाब होना.
• प्यास लगना.

जब शरीर में पानी की कमी हो निम्न तरीका अपनायें:
• पर्याप्त मात्रा में पानी पीयें .
• नारियल पानी पीना लाभप्रद है.
• ओआरएस का इस्तेमाल करें.
• चिकित्सक की सलाह से आवश्यक दवाई लें.
• पानी को उबाल कर ठंडा कर लें और पीयें .
• अधपके खाद्य पदार्थों, कटे और खुले फलों से परहेज.
• फलों व सब्जियों को अच्छी तरह धो कर इस्तेमाल.

नवजात व छोटे बच्चों का इस तरह रखें ध्यान:
नवजात व दूध पीते छोटे बच्चों में डायरिया की समस्या की रोकथाम के लिए उनका नियमित स्तनपान कराया जाना जरूरी है| इसके अलावा इसका भी पालन अवश्य रूप से करें|
• ओआरएस का घोल बना कर छोटे छोटे घूंट में पिलायें.
• वॉशरूम के इस्तेमाल के बाद मां साबुन से हाथ धोएं
• बच्चे के नियमित स्तनपान व संतुलित आहार का ध्यान रखें.
• आवश्यक होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले जायें.
आशा व आंगनबाड़ी सेविकाएं से लें मदद:
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अशोक कुमार भारती ने बताया कि डायरिया की रोकथाम के लिए आशा व आंगनबाड़ी सेविकाओं की मदद ली जा सकती है| उनके पास ओआरएस व जिंक की गोली मौजूद होती है| इसका सेवन डायरिया को रोकता है|. साथ ही लॉकडाउन के समय में जब अस्पताल जाने में असुविधा हो रही है तो आशा व आंगनबाड़ी सहित नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत चिकित्सक का फोन नंबर अवश्य रखें| ताकि फोन पर ही सलाह ली जा सके|

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Notice: Undefined index: amount in /home/u709339482/domains/mobilenews24.com/public_html/wp-content/plugins/addthis-follow/backend/AddThisFollowButtonsHeaderTool.php on line 82
%d bloggers like this: