भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा मोतिहारी में चुनावी जनसभा संबोधित किया ।

राजनीति में एक होता है चलन और एक होता है चलन को बदलने की ताकत रखने वाला नेतृत्व।
अगर हम बिहार और भारत की राजनीति की बात करें तो यहां चलन था कि वादा करो, वादा करके बेवफाई करो और फिर उसे भुलाकर नए वादे को लेकर चल पड़ो: इस चलन को और राजनीति के चाल चरित्र और संस्कृति को बदलने का काम अगर भारत की राजनीति में किसी ने किया है तो वो देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है: उन्होंने राजनीति की परिभाषा बदल दी।

इसका मतलब ये हुआ कि अब नेताओं को भी अपने रिपोर्ट कार्ड के साथ जनता के सामने जाना पड़ेगा: मोदी जी ने देश और बिहार को लालटेन युग से निकालकर LED युग तक पहुंचा दिया: मोदी जी ने 2015 में कहा था कि अगले 5 साल में बिहार में 1 लाख 25 हजार करोड़ रु खर्च होंगे।

उस समय लालू यादव ने इसे जुमला कहा था।

पिछले 5 साल में मोदी जी ने किसानों के लिए 3,904 करोड़ रु, शिक्षा के लिए 1,000 करोड़ रुपये और स्वास्थ्य के लिए 600 करोड़ रुपये भेजे हैं: बिजली के लिए 16,130 करोड़ रुपये,

सड़कों के लिए 13,820 करोड़ रुपये,

हाइवे पर 54,713 करोड़,

एयरपोर्ट के लिए 2,700 करोड़ रुपये,

पेट्रोलियम और गैस लाइन के लिए 21, 476 करोड़ रुपये और

अमृत की 22 जगहों के लिए 1,400 करोड़ रुपये दिए हैं: महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय यहां बना।

ये केंद्रीय विश्वविद्यालय तब आई, जब मोदी जी देश के प्रधानमंत्री बने और आपके सांसद केंद्रीय मंत्री: 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: